Adsense responsive

शुक्रवार, 16 फ़रवरी 2018

पौराणिक शास्त्रों के अनुसार शुभ और अशुभ



पौराणिक शास्त्रों के अनुसार शुभ और अशुभ के बारे में कई बार हम पढ़ते आए हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं वास्तुशास्त्र के अनुसार भी कुछ ऐसे संकेत हैं, जिन्हें बेहद अशुभ माना जाता है। दरअसल इन संकेतों का दिखना बताता है कि जिस काम को आप करने जा रहे हैं, वह असफल रहेगा और साथ ही ये आपके आने वाले बुरे समय की ओर भी इशारा करते हैं। चलिए जानें, कौन से है वह अशुभ संकेत...

वास्तुशास्त्र के अनुसार, ऐसा कहा जाता है कि जिस भी घर में प्रचूर मात्रा में काली चींटियां झुंड में आती हैं, वहां धन वर्षा होने लगती है। लेकिन अगर यह चींटियां काली ना होकर लाल हैं तो यह बड़े नुकसान के होने का संकेत है। इसके साथ ही अगर आपके घर में दीमक आ गई है या मधुमक्खी ने अपना छत्ता बना लिया है तो यह दर्शाता है कि गृहस्वामी को कोई असहनीय शारीरिक पीड़ा का सामना करना पड़ सकता है।

अगर आपका घर बहुत पथरीली या टेढ़ी-मेढ़ी जमीन पर बना हुआ है तो यह इस बात का संकेत है कि घर में रहने वाले लोगों को हर समय किसी ना किसी परेशानी का सामना पड़ सकता है। इसके साथ ही अगर घर में अचानक से ही काले चूहों का आना-जाना शुरू हो जाए या उनकी संख्या में अचानक से वृद्धि हो तो यह आने वाली विपत्तियों की ओर इशारा करता है।

भवन-निर्माण के लिए अगर आप किसी भूमि की खुदाई कर रहे हैं और वहां कोई मृत जीव, खासकर सर्प दिख जाए यह अशुभ है। यह दर्शाता है कि बुरा समय आपके बहुत नजदीक है। वहीं अगर भूमि की खुदाई करते हुए राख या हड्डी जैसी वस्तुएं मिलती हैं तो यह पहचान है कि आपके ऊपर कोई अनजाना खतरा मंडरा रहा है। जिसके लिए आपको जल्द ही शांति पूजा करवा लेनी चाहिए।

भवन-निर्माण के लिए अगर आप किसी भूमि की खुदाई कर रहे हैं और वहां कोई मृत जीव, खासकर सर्प दिख जाए यह अशुभ है। यह दर्शाता है कि बुरा समय आपके बहुत नजदीक है। वहीं अगर भूमि की खुदाई करते हुए राख या हड्डी जैसी वस्तुएं मिलती हैं तो यह पहचान है कि आपके ऊपर कोई अनजाना खतरा मंडरा रहा है। जिसके लिए आपको जल्द ही शांति पूजा करवा लेनी चाहिए।सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें