Adsense responsive

शुक्रवार, 29 सितंबर 2017

शास्त्रानुसार ये 9 काम करने से रहती है घर में खुशहाली

शास्त्रानुसार ये 9 काम करने से रहती है घर में खुशहाली




हमारे शास्त्रों में कई ऐसे काम बताएं गए है जिनका पालन यदि किसी परिवार में किया जाए तो वो परिवार पीढ़ियों तक खुशहाल बना रहता है। आइए जानते है शास्त्रों में बताएं गए 9 ऐसे ही काम।
शास्त्र gyan- घर में शांति और समृद्धि लाने के लिए कैसे

1. कुलदेवता पूजन और श्राद्ध-

जिस कुल के पितृ और कुल देवता उस कुल के लोगों से संतुष्ट रहते हैं। उनकी सात पीढिय़ां खुशहाल रहती है। हिंदू धर्म में कुल देवी का अर्थ है कुल की देवी। मान्यता के अनुसार हर कुल की एक आराध्य देवी होती है। जिनकी आराधना पूरे परिवार द्वारा कुछ विशेष तिथियों पर की जाती है। वहीं, पितृ तर्पण और श्राद्ध से संतुष्ट होते हैं। पुण्य तिथि के अनुसार पितृ का श्राद्ध व तर्पण करने से पूरे परिवार को उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है।

2.जूठा व गंदगी से रखें घर को दूर-

जिस घर में किचन मेंं खाना बिना चखें भगवान को अर्पित किया जाता है। उस घर में कभी अन्न और धन की कमी नहीं होती है। इसलिए यदि आप चाहते हैं कि घर पर हमेशा लक्ष्मी मेहरबान रहे तो इस बात का ध्यान रखें कि किचन में जूठन न रखें व खाना भगवान को अर्पित करने के बाद ही जूठा करें। साथ ही, घर में किसी तरह की गंदगी जाले आदि न रहे। इसका खास ख्याल रखें।

3. इन पांच को खाना खिलाएं-

खाना बनाते समय पहली रोटी गाय के लिए निकालें। मछली को आटा खिलाएं। कुत्ते को रोटी दें। पक्षियों को दाना डालें और चीटिंयों को चीनी व आटा खिलाएं। जब भी मौका मिले इन 5 में से 1 को जरूर भोजन करवाएं।

4. अन्नदान –

दान धर्म पालन के लिए अहम माना गया है। खासतौर पर भूखों को अनाज का दान धार्मिक नजरिए से बहुत पुण्यदायी होता है। संकेत है कि सक्षम होने पर ब्राह्मण, गरीबों को भोजन या अन्नदान से मिले पुण्य अदृश्य दोषों का नाश कर परिवार को संकट से बचाते हैं। दान करने से सिर्फ एक पीढ़ी का नहीं सात पीढिय़ों का कल्याण होता है।

5. वेदों और ग्रंथों का अध्ययन –

सभी को धर्म ग्रंथों में छुपे ज्ञान और विद्या से प्रकृति और इंसान के रिश्तों को समझना चाहिए। व्यावहारिक रूप से परिवार के सभी सदस्य धर्म, कर्म के साथ ही उच्च व्यावहारिक शिक्षा को भी प्राप्त करें।

6. तप –

आत्मा और परमात्मा के मिलन के लिए तप मन, शरीर और विचारों से कठिन साधना करें। तप का अच्छे परिवार के लिए व्यावहारिक तौर पर मतलब यही है कि परिवार के सदस्य सुख और शांति के लिए कड़ी मेहनत, परिश्रम और पुरुषार्थ करें।

7. पवित्र विवाह –

विवाह संस्कार को शास्त्रों में सबसे महत्वपूर्ण संस्कार माना गया है। यह 16 संस्कारों में से पुरुषार्थ प्राप्ति का सबसे अहम संस्कार हैं। व्यवहारिक अर्थ में गुण, विचारों व संस्कारों में बराबरी वाले, सम्माननीय या प्रतिष्ठित परिवार में परंपराओं के अनुरूप विवाह संबंध दो कुटुंब को सुख देता है। उचित विवाह होने पर स्वस्थ और संस्कारी संतान होती हैं, जो आगे चलकर कुल का नाम रोशन करती हैं।

8. इंद्रिय संयम –

कर्मेंन्द्रियों और ज्ञानेन्द्रियों पर संयम रखना। जिसका मतलब है परिवार के सदस्य शौक-मौज में इतना न डूब जाए कि कर्तव्यों और जिम्मेदारियों को भूलने से परिवार दु:ख और कष्टों से घिर जाए।

9. सदाचार –

अच्छा विचार और व्यवहार। संदेश है कि परिवार के सदस्य संस्कार और जीवन मूल्यों से जुड़े रहें। अपने बड़ों का सम्मान करें। रोज सुबह उनका आशीर्वाद लेकर दिन की शुरुआत करे ताकि सभी का स्वभाव, चरित्र और व्यक्तित्व श्रेष्ठ बने। स्त्रियों का सम्मान करें और परस्त्री पर बुरी निगाह न रखें। ऐसा करने से घर में हमेशा मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।




















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


गुरुवार, 28 सितंबर 2017

कपूर के टोटके



रात के समय में चांदी की कटोरी में कपूर और लौंग को जलाएं। इस टोटके को कुछ दिनों तक रोज करें। यह उपाय आपको धन से मालामाल कर देगा। पैसों की कमी भी नहीं रहेगी।
जब हजार कोशिशों के बाद भी काम नहीं बनते हैं तो एैसे में कपूर आपकी किस्मत के ताले को खोल सकता है।

शनिवार के दिन कपूर के तेल की बूंदों को पानी में डालें और फिर इस पानी से रोज स्नान करें। यह टोटका आपकी बंद किस्मत को खोलता है। और आपको बीमारियों से भी बचाता है। दुर्घटना कभी भी हो सकती है। एैसे में बचाव बहुत ही जरूरी है।

आप रात के समय में कपूर को जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। इस अचूक टोटके से इंसान किसी भी तरह की प्राकृतिक व अप्राकृतिक दुर्घटना से बचता रहता है।

आपके कई काम इसलिए नहीं बनते हैं क्योंकि इसके पीछे वास्तुदोष होता है। वास्तुदोष को खत्म करने के लिए घर में कपूर की दो गोली रखें। और जब यह गल जाएं फिर दो गोलियां रख दें। एैसा आप समय समय पर करते रहें या बदलते रहें। इससे वास्तुदोष खत्म हो जाएगा।

यदि आपके घर में परेशानी रहती हो तो कपूर को घी में भिगाएं और सुबह और शाम के समय में इसे जलाएं। इससे निकलने वाली उर्जा से घर के अंदर सकारात्मक उर्जा आती है जिससे घर में शांति बनी रहती है।

यदि विवाह में किसी भी तरह की समस्या आ रही हो तो आप 6 कपूर के टुकडे और 36 लौंग के टुकडे लें। अब इसमें चावल और हल्दी को मिला लें। इसके पश्चात आप देवी दुर्गा को इससे आहुति दें। इस टोटके से शादी जल्दी होती है।
सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



बुधवार, 27 सितंबर 2017

क्यों होते है माला में 108 दाने, क्यों करते है मंत्र जाप के लिए माला का प्रयोग?



क्यों होते है माला में 108 दाने, क्यों करते है मंत्र जाप के लिए माला का प्रयोग?


हिन्दू धर्म में हम मंत्र जप के लिए जिस माला का उपयोग करते है, उस माला में दानों की संख्या 108 होती है। शास्त्रों में इस संख्या 108 का अत्यधिक महत्व होता है । माला में 108 ही दाने क्यों होते हैं, इसके पीछे कई धार्मिक, ज्योतषिक  और वैज्ञानिक मान्यताएं हैं। आइए हम यहां जानते है ऐसी ही चार मान्यताओ के बारे में तथा साथ ही जानेंगे आखिर क्यों करना चाहिए मन्त्र जाप के लिए माला का प्रयोग।
Kyon hote hai mala mein 108 manke (daane)
सूर्य की एक-एक कला का प्रतीक होता है माला का एक-एक दाना
एक मान्यता के अनुसार माला के 108 दाने और सूर्य की कलाओं का गहरा संबंध है। एक वर्ष में सूर्य 216000 कलाएं बदलता है और वर्ष में दो बार अपनी स्थिति भी बदलता है। छह माह उत्तरायण रहता है और छह माह दक्षिणायन। अत: सूर्य छह माह की एक स्थिति में 108000 बार कलाएं बदलता है।
इसी संख्या 108000 से अंतिम तीन शून्य हटाकर माला के 108 मोती निर्धारित किए गए हैं। माला का एक-एक दाना सूर्य की एक-एक कला का प्रतीक है। सूर्य ही व्यक्ति को तेजस्वी बनाता है, समाज में मान-सम्मान दिलवाता है। सूर्य ही एकमात्र साक्षात दिखने वाले देवता हैं, इसी वजह से सूर्य की कलाओं के आधार पर दानों की संख्या 108 निर्धारित की गई है।
माला में 108 दाने रहते हैं। इस संबंध में शास्त्रों में दिया गया है कि…
षट्शतानि दिवारात्रौ सहस्राण्येकं विशांति।
एतत् संख्यान्तितं मंत्रं जीवो जपति सर्वदा।।
इस श्लोक के अनुसार एक पूर्ण रूप से स्वस्थ व्यक्ति दिनभर में जितनी बार सांस लेता है, उसी से माला के दानों की संख्या 108 का संबंध है। सामान्यत: 24 घंटे में एक व्यक्ति करीब 21600 बार सांस लेता है। दिन के 24 घंटों में से 12 घंटे दैनिक कार्यों में व्यतीत हो जाते हैं और शेष 12 घंटों में व्यक्ति सांस लेता है 10800 बार।
इसी समय में देवी-देवताओं का ध्यान करना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार व्यक्ति को हर सांस पर यानी पूजन के लिए निर्धारित समय 12 घंटे में 10800 बार ईश्वर का ध्यान करना चाहिए,
लेकिन यह संभव नहीं हो पाता है।
इसीलिए 10800 बार सांस लेने की संख्या से अंतिम दो शून्य हटाकर जप के लिए 108 संख्या निर्धारित की गई है। इसी संख्या के आधार पर जप की माला में 108 दाने होते हैं।
108 के लिए ज्योतिष की मान्यता
ज्योतिष के अनुसार ब्रह्मांड को 12 भागों में विभाजित किया गया है। इन 12 भागों के नाम मेष, वृष, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुंभ और मीन हैं। इन 12 राशियों में नौ ग्रह सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु और केतु विचरण करते हैं। अत: ग्रहों की संख्या 9 का गुणा किया जाए राशियों की संख्या 12 में तो संख्या 108 प्राप्त हो जाती है।
माला के दानों की संख्या 108 संपूर्ण ब्रह्मांड का प्रतिनिधित्व करती है।
एक अन्य मान्यता के अनुसार ऋषियों ने में माला में 108 दाने रखने के पीछे ज्योतिषी कारण बताया है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुल 27 नक्षत्र बताए गए हैं। हर नक्षत्र के 4 चरण होते हैं और 27 नक्षत्रों के कुल चरण 108 ही होते हैं। माला का एक-एक दाना नक्षत्र के एक-एक चरण का प्रतिनिधित्व करता है।
इसलिए किया जाता है माला का उपयोग
जो भी व्यक्ति माला की मदद से मंत्र जप करता है, उसकी मनोकामनएं बहुत जल्द पूर्ण होती हैं। माला के साथ किए गए जप अक्षय पुण्य प्रदान करते हैं। मंत्र जप निर्धारित संख्या के आधार पर किए जाए तो श्रेष्ठ रहता है। इसीलिए माला का उपयोग किया जाता है।
किसे कहते हैं सुमेरू
माला के दानों से मालूम हो जाता है कि मंत्र जप की कितनी संख्या हो गई है। जप की माला में सबसे ऊपर एक बड़ा दाना होता है जो कि सुमेरू कहलाता है। सुमेरू से ही जप की संख्या प्रारंभ होती है और यहीं पर खत्म भी। जब जप का एक चक्र पूर्ण होकर सुमेरू दाने तक पहुंच जाता है तब माला को पलटा लिया जाता है। सुमेरू को लांघना नहीं चाहिए।
जब भी मंत्र जप पूर्ण करें तो सुमेरू को माथे पर लगाकर नमन करना चाहिए। इससे जप का पूर्ण फल प्राप्त होता है।
संख्याहीन मंत्रों के जप से नहीं मिलता है पूर्ण पुण्य
शास्त्रों में लिखा है कि-
बिना दमैश्चयकृत्यं सच्चदानं विनोदकम्।
असंख्यता तु यजप्तं तत्सर्व निष्फलं भवेत्।।
इस श्लोक का अर्थ है कि भगवान की पूजा के लिए कुश का आसन बहुत जरूरी है, इसके बाद दान-पुण्य जरूरी है। साथ ही, माला के बिना संख्याहीन किए गए मंत्र जप का भी पूर्ण फल प्राप्त नहीं हो पाता है। अत: जब भी मंत्र जप करें, माला का उपयोग अवश्य करना चाहिए।
मंत्र जप के लिए उपयोग की जाने वाली माला रुद्राक्ष, तुलसी, स्फटिक, मोती या नगों से बनी होती है। यह माला बहुत चमत्कारी प्रभाव रखती है। ऐसी मान्यता है कि किसी मंत्र का जप इस माला के साथ करने पर दुर्लभ कार्य भी सिद्ध हो जाते हैं।
भगवान की पूजा के लिए मंत्र जप सर्वश्रेष्ठ उपाय है और पुराने समय से ही बड़े-बड़े तपस्वी, साधु-संत इस उपाय को अपनाते रहे हैं। जप के लिए माला की आवश्यकता होती है और इसके बिना मंत्र जप का फल प्राप्त नहीं हो पाता है।
रुद्राक्ष से बनी माला मंत्र जप के लिए सर्वश्रेष्ठ होती है। रुद्राक्ष को महादेव का प्रतीक माना गया है। रुद्राक्ष में सूक्ष्म कीटाणुओं का नाश करने की शक्ति भी होती है। साथ ही, रुद्राक्ष वातावरण में मौजूद सकारात्मक ऊर्जा को ग्रहण करके साधक के शरीर में पहुंचा देता है।


















सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


शुक्रवार, 22 सितंबर 2017

भाग्य का साथ चाहते हैं तो ध्यान रखें पेड़-पौधों से जुड़ी 7 बातें

भाग्य का साथ चाहते हैं तो ध्यान रखें पेड़-पौधों से जुड़ी 7 बातें 

To view Current Government Jobs, please see below given articles



वास्तु शास्त्र के अनुसार, जिस प्रकार घर का हर हिस्सा हमारे जीवन को प्रभावित करता है, उसी तरह घर में सजावट के लिए रखे गए पौधे भी हमारे जीवन पर पॉजिटिव और नेगेटिव प्रभाव डालते हैं। जाने-अनजाने में हम कई बार ऐसे पौधे अपने घर में रख लेते हैं, जिनके कारण वास्तु दोष उत्पन्न हो जाता है।जिसका सीधा-सीधा असर हमारे जीवन पर पड़ता है। आज हम आपको बता रहे हैं घर में किस प्रकार के पौधे रखना चाहिए और कैसे नहीं।
                                                                                               Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi
Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi
Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi
Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi
Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi
Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi
Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi
Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi Vastu shastra tips for plants and trees in Hindi

बुधवार, 20 सितंबर 2017

घटस्थापना का खास शुभ मुहूर्त



नवरात्र शुद्धता से जुड़ा पर्व है, जिसमें नौ दिनों तक पूर्ण पवित्रता और सात्विकता बनाए रखते हुए देवी के नौ स्वरूपों की आराधना करने का विधान है। इस बार नवरात्र पूरे 9 दिन के पड़ रहे है। इन नौ दिन साधना के लिए बड़े ही फलदायी बताए गए हैं। माता दुर्गा की साधना के अलावा आप इन दिनों और देवी-देवताओं की उपासना करके भी विशेष फल प्राप्त कर सकते हैं। इन दिनों में यदि इन मुहूर्तों में पूजा-पाठ किए जाएं तो घर में धन-धान्य किसी की भी कोई कमी नहीं रह जाती है। आइए जानें खास शुभ मुहूर्त-

घटस्थापना का शुभ मुहूर्त -
जिन घरों में नवरात्रि पर घट-स्थापना होती है उनके लिए शुभ मुहूर्त 21 सितंबर को सुबह 06 बजकर 03 मिनट से लेकर 08 बजकर 22 मिनट तक का है। इस दौरान घट स्थापना करना अच्छा होता है। किसी भी वक्त कलश स्थापित कर सकता है वैसे नवरात्र के प्रारंभ से ही अच्छा वक्त शुरू हो जाता है इसलिए अगर जातक शुभ मुहूर्त में घट स्थापना नहीं कर पाता है तो वो पूरे दिन किसी भी वक्त कलश स्थापित कर सकता है क्योंकि मां दुर्गा कभी भी अपने भक्तों का बुरा नहीं करती हैं। अभिजीत मुर्हूत 11.36 से 12.24 बजे तक है। देवी बोधन 26 सितंबर मंगलवार को होगा। बांग्ला पूजा पद्धति को मानने वाले पंडालों में उसी दिन पट खुल जाएंगे। जबकि 27 सितंबर सप्तमी तिथि को सुबह 9.40 बजे से देर शाम तक माता रानी के पट खुलने का शुभ मुहूर्त है।




नवरात्र में मां के 9 रूपों की पूजा होती है
21 सितंबर 2017 : मां शैलपुत्री की पूजा
22 सितंबर 2017 : मां ब्रह्मचारिणी की पूजा
23 सितंबर 2017 : मां चन्द्रघंटा की पूजा
24 सितंबर 2017 : मां कूष्मांडा की पूजा
25 सितंबर 2017 : मां स्कंदमाता की पूजा
26 सितंबर 2017 : मां कात्यायनी की पूजा
27 सितंबर 2017 : मां कालरात्रि की पूजा
28 सितंबर 2017 : मां महागौरी की पूजा
29 सितंबर 2017 : मां सिद्धदात्री की पूजा
30 सितंबर 2017: दशमी तिथि, दशहरा




देवी मां को रिझाने के लिए नौ दिन पहनें नौ रंगों के कपडे -
कहते हैं ऐसे में देवी के हर रूप के लिए अलग-अलग तय रंगों को अपनी वेशभूषा में यदि आप भी अपनाएं तो देवी प्रसन्न होती हैं। इस बार भी देवी के लिए नौ रंग तय हैं।
नवरात्रि के पहले दिन की प्रधान देवी शैलपुत्री हैं। इस रोज ग्रे रंग पहनने से शुभ लाभ की प्राप्ति होती है।
नवरात्रि के दूसरे दिन देवी ब्रह्मचारिणी के पूजन का विधान है। इस रोज ऑरेंज रंग के वस्त्र पहनने चाहिए।
नवरात्रि के तीसरे दिन सफेद रंग के कपड़े पहन कर देवी चंद्रघंटा की पूजा करें।
नवरात्रि के चौथे दिन कुष्मांडा स्वरूप का पूजन करें और लाल रंग के कपड़े पहनें।

नवरात्रि के पांचवे दिन नीले रंग के वस्त्र पहन कर देवी के स्कंदमाता रूप की आराधना करें।
नवरात्रि के छटे दिन पीले रंग के कपड़े पहन कर देवी कात्यायनी की उपासना करें।
नवरात्रि की सप्तमी तिथि को हरा रंग पहन कर देवी के कालरात्रि स्वरुप की पूजा करें। महिलाओं के लिए इस दिन हरे रंग की चूड़ियां पहनना और दान करना शुभ रहेगा।
नवरात्रि में अष्टमी तिथि का महत्व सबसे अधिक होता है। इस दिन की प्रधान देवी महागौरी हैं, मोरपंखी पोशाक पहनने से देवी मां की कृपा मिलेगी।
नौवां नवरात्रि नवमी के नाम से जाना जाता है। इस दिन समस्त सिद्धियों की दात्री देवी सिद्धिदात्री का पूजन होता है। नौंवे दिन जामुनी रंग के परिधान धारण करें।सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



रविवार, 17 सितंबर 2017

शनि देव के सामने हाथ जोड़कर नहीं करें प्रणाम



अधिकतर लोग भगवान को हाथ जोड़कर प्रणाम करते हैं। शनि देव को भी इसी तरह प्रणाम किया जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि शनि देव के सामने खड़े होकर हाथ जोड़कर उन्हें प्रणाम नहीं करना चाहिए। जानिए इसके पीछे का कारण अक्‍सर शनिदेव को प्रणाम करते समय उनसे कृपा बनाए रखने के लिए प्रार्थना करते हैं। जबकि ऐसा भूलकर भी नहीं करना चाहिए। शनिदेव की व्रक दृष्टि का पड़ना अशुभ होता है।

शनिदेव के मंदिर में सूर्योदय से पहले या फिर सूर्यास्त के बाद ही जाएं। शनिदेव को दोनों हाथ जोड़कर प्रणाम करने की जगह अपना सिर शनिदेव के आगे झुकाएं और दोनों हाथ को कमर के पीछे ले जाकर बांधकर नमन करें।इसके बाद शनिदेव के आगे प्रतिज्ञा करें कि जो काम भगवान को पसंद नहीं हैं, वो आप बिल्कुल भी नहीं करेंगे। अगर आपने भगवान को ऐसा वचन दिया है तो उसका ईमानदारी से पालन नहीं कर पाएं तो शनिदेव का प्रकोप भी आपको झेलना पड़ सकता है।

शुक्रवार, 15 सितंबर 2017

अमृतसर के स्वर्ण मंदिर की ख़ास बातें



1. गोल्डन टेम्पल के निर्माण के लिए जमीन मुस्लिम शासक अकबर ने दान की थी।

2. इस टेम्पल की नींव साईं मियां मीर नाम के एक मुस्लिम संत ने रखी थी। सूफी संत साईं मिया मीर का सिख धर्म के प्रति शुरू से ही झुकाव था। वे लाहौर के रहने वाले थे और सिखों के पांचवें गुरु अर्जन देव जी के दोस्त थे।
जब हरमंदिर साहिब के निर्माण पर विचार किया गया, तो फैसला हुआ था कि इस मंदिर में सभी धर्मों के लोग आ सकेंगे। इसके बाद सिखों के पांचवें गुरु अर्जन देव जी ने लाहौर के सूफी संत साईं मियां मीर से दिसंबर 1588 में गुरुद्वारे की नींव रखवाई थी।


3. महाराजा रंजीत सिंह ने मंदिर निर्माण के लगभग 2 शताब्दी बाद यहां की दीवारों पर सोना चढ़वाया था।

4. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश सरकार ने जीत के लिए यहां पर अखंड पाठ करवाया था।


5. अहमद शाह अब्दाली के सेनापति जहां खान ने इस मंदिर पर हमला किया था, जिसके जवाब में सिख सेना ने उसकी पूरी सेना को खत्म कर दिया था।

6. इस मंदिर में सभी धर्म के लोग आते हैं। मंदिर में चार दरवाज़े चारों धर्म की एकता के रूप में बनाए गए थे।

7. यहां दुनिया का सबसे बड़ा लंगर लगाया जाता है। यहां लगभग 70000 लोग रोज़ खाना खाते हैं।

8. कहा जाता है कि मुग़ल बादशाह अकबर ने भी गुरु के लंगर में आम लोगों के साथ बैठकर प्रसाद खाया था।

9. इस मंदिर में 24 घंटे हलवे की व्यवस्था रहती है। अनुमान के मुताबिक़, रोज़ यहां दो लाख रोटियां बनती हैं।

10. इस मंदिर में 35 प्रतिशत पर्यटक सिख धर्म के अलावा अन्य धर्मों के होते हैं।

11. इस मंदिर में साधारण से लेकर अरबपति तक अपनी सेवा देते हैं। ये जूते पॉलिश से लेकर थाली तक साफ़ करते हैं।

12. माना जाता है कि सरोवर के बीच से निकलने वाला रास्ता ये दर्शाता है कि मौत के बाद भी एक यात्रा होती है।

13. स्वर्ण मंदिर को कई बार नुकसान पहुंचाया गया था, लेकिन भक्ति और आस्था के इस केंद्र का फिर से निर्माण कराया गया। ऐसा माना जाता है कि 19वीं शताब्दी में अफगान हमलावरों ने इस मंदिर को पूरी तरह नष्ट कर दिया था। तब महाराजा रणजीत सिंह ने इसके रिनोवेशन के साथ इसकी गुंबद पर सोने की परत चढ़वाई थी।

14. मंदिर को कब-कब नष्ट किया गया और कब-कब बनाया गया, यह वहां लगे शिलालेखों से पता चलता है।

15. स्वर्ण मंदिर पहले पत्थर और ईंटों से बना था। बाद में इसमें सफ़ेद मार्बल यूज़ किया गया।

16. स्वर्ण मंदिर की सीढ़ियां ऊपर नहीं बल्कि नीचे की तरफ जाती हैं। जो इंसान को ऊपर से नीचे आना सिखाती है।

17. सिखों के चौथे गुरु रामदासजी ने तालाब का निर्माण शुरू किया था।सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



बुधवार, 13 सितंबर 2017

घर के लिए कुछ वास्तु टिप्स



पूजा घर उत्तर-पूर्व दिशा अर्थात ईशान कोण में बनाना सबसे अच्छा रहता है.
अगर इस दिशा में पूजा घर बनाना सम्भव नहीं हो रहा हो, तो उत्तर दिशा में पूजा घर बनाया जा सकता है.
लेकिन ध्यान रखें कि ईशान कोण सर्वश्रेष्ठ दिशा है.
Puja Ghar पूजा घर से सटा हुआ या पूजा घर के ऊपर या नीचे
शौचालय नहीं होना चाहिए.
पूजा घर में प्रतिमा स्थापित नहीं करनी चाहिए क्योंकि घर में प्राण प्रतिष्ठित मूर्ति का ध्यान उस तरह से
नहीं रखा जा सकता है जैसा कि रखा जाना चाहिए. अतः छोटी मूर्तियाँ और चित्र हीं पूजा घर में लगाने चाहिए.
सीढ़ी के नीचे पूजा घर नहीं बनाना चाहिए.
फटे हुए चित्र, या खंडित मूर्ति पूजा घर में बिल्कुल नहीं होनी चाहिए.
पूजा घर और रसोई या बेडरूम एक हीं कमरे में नहीं होना चाहिए.
घर के मालिक का कमरा दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए. अगर इस दिशा में सम्भव न हो,
तो उत्तर-पश्चिम दिशा दूसरा सर्वश्रेष्ठ विकल्प है.
गेस्ट रूम उत्तर-पूर्व की ओर होना चाहिए. अगर उत्तर-पूर्व में कमरा बनाना सम्भव न हो,
तो उत्तर पश्चिम दिशा दूसरा सर्वश्रेष्ठ विकल्प है.
उत्तर-पूर्व में किसी का भी बेडरूम नहीं होना चाहिए.
रसोई के लिए दक्षिण-पूर्व दिशा सबसे अच्छी होती है.
शौचालय और स्नानघर दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना सर्वश्रेष्ठ है.
घर की सीढ़ी सामने की ओर से नहीं होनी चाहिए, और सीढ़ी ऐसी जगह पर होनी चाहिए कि घर में
घूसने वाले व्यक्ति को यह सामने नजर नहीं आनी चाहिए.
सीढ़ी के पायदानों की संख्या विषम 21, 23, 25 इत्यादि होनी चाहिए.
Sidhi सीढ़ी के नीचे शौचालय, रसोई, स्नानघर, पूजा घर इत्यादि नहीं होने चाहिए. सीढ़ी के नीचे
कबाड़ भी नहीं रखना चाहिए.
सीढ़ी के नीचे कुछ उपयोगी सामान रख सकते हैं और सीढ़ी के नीचे रखे हुए सामान
सुसज्जित होने चाहिए.
घर का कोई भी रैक खुला नहीं होना चाहिए. उसमें पल्ले जरुर लगाने चाहिए.
Vastu Shastra Tips For Home in Hindi घर में कबाड़ नहीं रखना चाहिए.
कमरे की लाइट्स पूर्व या उत्तर दिशा में लगी होनी चाहिए.
घर के ज्यादातर कमरों की खिड़कियाँ और दरवाजे उत्तर या पूर्व दिशा में खुलने चाहिए.
सीढ़ी पश्चिम दिशा में होनी चाहिए.
घर का मुख्य दरवाजा दक्षिणमुखी नहीं होना चाहिए. अगर मजबूरी में दक्षिणमुखी दरवाजा बनाना
पड़ गया हो, तो दरवाजे के सामने एक बड़ा सा आईना लगा दें.
घर के प्रवेश द्वार में ऊं या स्वस्तिक बनाएँ या उसकी थोड़ी बड़ी आकृति लगाएँ.
पूजा घर या उत्तर-पूर्व दिशा में जल से भरकर कलश रखें.
शयनकक्ष में भगवान की या धार्मिक आस्थाओं से जुड़ी तस्वीर नहीं लगानी चाहिए.
ताजमहल एक मकबरा है, इसलिए न तो इसकी तस्वीर घर में लगानी चाहिए. और न हीं इसका
कोई शो पीस घर में रखना चाहिए.
जंगली जानवरों के फोटो घर में नहीं रखने चाहिए.
पानी के फुहारे को घर में नहीं लगाना चाहिए. क्योंकि इससे धन नहीं ठहरता है.
नटराज की तस्वीर या मूर्ति घर में नहीं रखनी चाहिए, क्योंकि इसमें शिवजी ने विकराल रूप लिया हुआ है.
महाभारत का कोई भी चित्र घर में नहीं रखना चाहिए. क्योंकि इससे कलह कभी खत्म नहीं होता है.

सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



सोमवार, 11 सितंबर 2017

लक्ष्मी प्राप्ति के ये उपाय


आर्थिक तंगी के चलते इंसान अपने आप में नहीं रहता, मानसिक शांति खो देता है और फिर वह पंडितों और ज्योतिषियों के चक्कर लगाने लगता है। हर इंसान की इच्छा होती है कि वह अमीर हो, ऐशो-आराम में उसका हर पल बीते और दुख उसके पास बिलकुल नहीं आये। ऐशो आराम को पाने के लिए वह दिन-रात मेहनत करता है लेकिन फिर भी उसे वो लम्हा प्राप्त नहीं होता जिसकी कल्पना वह करता है।  यदि आपके साथ भी कुछ ऐसा हो रहा है तो आप नीचे बताये जा रहे उपायों को आजमा कर देखिये हो सकता है आपकी किस्मत पलट जाए और लक्ष्मी आपके द्वार पर खडी नजर आए।

1. घर में देवी-देवताओं की प्रतिमाओं पर चढाए गए फूल अथवा हार के सूख जाने पर उन्हें घर में न रखें।
2. रात को चावल, दही और सत्तू न खाएं।
3. सांझ के समय जब दिया बत्ती का वक्त हो उस वक्त सोना नहीं चाहिए, साथ ही यदि आप कोई कार्य कर रहे हैं, तो भी उसे कुछ मिनटों के लिए छोड कर पहले भगवान का स्मरण करें उसके बाद पुन: अपने कार्य में लग जाए।
4. प्रतिदिन शिवलिंग पर जल, बिलपत्र औश्र अक्षत (चावल) चढाएं।
5. महालक्ष्मी और श्रीविष्णु की पूजा करें।
6. शाम के वक्त किसी मंदिर में दिया लगाएं।
7. पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा की पूजा करें।
8. घर में साफ सफाई रखें, इससे धन स्थायी रूप से आपके घर में रहेगा।
9. घर के उत्तर पूर्व में कचरा पात्र न रखें
10. नल अथवा पानी की टंकी से पानी का टपकते रहना दरिद्रता का सूचक होता है। जितना हो सके इसे ठीक रखें। इसके साथ ही घर में टूटा-फूटा सामान रखने से बचें, विशेषकर पलंग पर बिछे हुए गद्दे के नीच कोई कागज-पत्र अन्य कुछ न रखें, छत और सीढी के नीचे कबाड जमा करके न रखें, इनसे भी धन की हानि होती है।
11. भोजन करने से पूर्व जूते उतार कर भोजन करें। फर्श पर बैठकर भोजन करें। नंगे फर्श पर न बैठें अपने बैठने के लिए चद्दर बिछाये। साथ ही आलथ पालथी मारकर बैठे। थाली में झूठन न छोडें
सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



शुक्रवार, 8 सितंबर 2017

चूड़ियों के बारे में रोचक जानकारी



भारत में महिलाओं द्वारा चूडि़यां पहनने की परंपरा काफी पुरानी है। आज के समय में भी इनका बहुत ज्‍यादा महत्‍व है और एक महिला के जन्‍म से लेकर मृत्‍यु तक इनकी भूमिका रहती है। कुछ धर्मों में तो बच्‍ची के पैदा होने के साथ ही उसे शगुन के तौर पर चांदी के कंगन पहना दिए जाते हैं। चूडि़यां कई प्रकार की होती हैं और हर एक का एक अपना महत्‍व है। सबसे पहले चूड़ियों का संदर्भ शादीशुदा स्त्रियों से जोड़कर देखा जाता है। एक विवाहित स्त्री के लिए चूड़ियां केवल श्रृंगार की वस्तु या फिर आभूषण नहीं हैं, बल्कि इसके पीछे कई सारे कारण हैं। शादी के बाद स्त्रियों को सोने से बने कंगनों से अधिक कांच की चूड़ियां पहनने के लिए कहा जाता है।

इसके पीछे मान्‍यता है कि कांच की चूडि़यां पहनने से पति और बेटे का स्‍वास्‍थ्‍य बेहतर रहता है। अगर हम इसके वैज्ञानिक कारणों के बारे में जाने तो चूडि़यां पहनने से महिला के आसपास के वातावरण और स्‍वास्‍थ्‍य पर भी प्रभाव पड़ता है। चूड़ियां वातावरण में से नकारात्मक ऊर्जा को अपनी ओर खींचती हैं इसके साथ ही यह स्त्री के विभिन्न शारीरिक अंगों पर एक अलग सा दबाव बनती है जिससे उनका स्‍वास्‍थ्‍य बेहतर रहता है।

रहे सावधान ये नकारात्‍मक भी साबित हो सकती है

आपने चूडि़यों के फायदों के बारे में तो जान लिया लेकिन इसके वितरीत प्रभाव के बारे में जानना भी जरूरी है। ऐसा तब होता है जब चूड़ियां टूटती हैं या फिर उनमें दरार आ जाती है। ऐसी मान्यता है कि चूड़ियों का टूटना उस स्त्री या उससे जुड़े लोगों के लिए एक अशुभ संकेत लेकर आता है। चूड़ियों के टूटने के साथ उनमें दरार आ जाना ही अशुभ माना जाता है। ऐसा होने पर स्त्री को चूड़ियां उतार देने की सलाह दी जाती है क्‍यों कि ऐसा माना जाता है कि दरार आने पर भी अगर चूडि़यों को उतारा न जाए तो महिला के स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

मंगलवार, 5 सितंबर 2017

Quotes on Teachers






Quote 1. अपने छात्रों में सृजनात्मक भाव और ज्ञान का आनंद जगाना ही एक शिक्षक का सबसे महत्वपूर्ण गुण है।
अल्बर्ट आइंस्टीन | Albert Einstein

Quote2. एक शिक्षक के लिए सफलता का सबसे बड़ा संकेत…यह कह पाना है कि,” बच्चे अब ऐसे काम कर रहे हैं जैसे कि मेरा कोई अस्तित्व ही ना रहा हो.”
मरिया मोंटेसरी | Maria Montessori

Quote 3. अनुभव एक कठोर शिक्षक है क्योंकि वो परीक्षा पहले लेता है और पाठ बाद में सीखता है।
वेर्नोन ला | Vernon Law

Quote 4. असफलता हमारी शिक्षक होनी चाहिए, हमारा अंत करने वाली नहीं। असफलता देरी है, हार नहीं। यह एक अस्थायी चक्कर है, गतिरोध नहीं। असफलता को हम केवल ना कुछ बोल के, ना कुछ कर के और ना कुछ बन के बच सकते हैं।
डेनिस वैट्ले | Denis Waitley

Quote 5. एक शिक्षक वो दिशासूचक है जो जिज्ञासा, ज्ञान और बुद्धिमानी के चुम्बक को सक्रिय बनाता है।
एवर गैरिसन | Ever Garrison


Quote 6. एक अच्छा अध्यापक जब जीवन के सबक सिखाता है, तो कोई भी उसे जीवन भर नहीं मिटा सकता।



Quote 7. एक अच्छा शिक्षक आपको आपके प्रश्नों के उत्तर नहीं देता बल्कि वो सिर्फ आपको रास्ता दिखाता है और आपको आपका चुनाव खुद करने देता है ताकि आप वो सब खुशियाँ प्राप्त कर सकें जिनके आप योग्य हैं।


Quote 8. हमारा मार्गदर्शक बनने, हमें प्रेरित करने और हमें वो बनाने के लिए जो कि हम आज हैं, हे शिक्षक! आपका धन्यवाद।



Quote 9. किसी शिक्षक का सच्चा मुल्यांकन इस चीज से नहीं किया जा सकता कि वो क्या जानता है और न ही इस बात से किया जा सकता है कि वो अपने ज्ञान को दूसरों तक कैसे पहुचता है, बल्कि इस बात से किया जाता है कि वो दूसरों को ज्ञान पाने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है या नहीं।


Quote 10. एक शिक्षक जो शिक्षण से प्यार करता है वो अपने छात्रों को ज्ञान से प्यार करना सिखाता है।

Quote 11. अगर आप सीखना नहीं चाहते तो कोई भी आपकी सहयता नहीं कर सकता। अगर आप सीखने के लिए दृढ संकल्प हैं तो कोई भी आपको रोक नहीं सकता।
अज्ञात | Unknown

Quote 12. रचनात्मक अभिव्यक्ति और ज्ञान में प्रसन्नता जगाना शिक्षक की सर्वोच्च कला है |
अल्बर्ट आइन्स्टीन | Albert Einstein

Quote 13. यदि आपको लगता है कि आपका शिक्षक सख्त है तो तब तक इंतज़ार करिए जब तक आपको बॉस नहीं मिल जाता है।
बिल गेट्स | Bill Gates

Quote 14. तुम्हे अन्दर से बाहर की तरफ विकसित होना है। कोई तुम्हे पढ़ा नहीं सकता, कोई तुम्हे आध्यात्मिक नहीं बना सकता। तुम्हारी आत्मा के आलावा कोई और गुरु नहीं है।
स्वामी विवेकानंद | Swami Vivekananda

Quote 15. शिक्षण एक ऐसा व्यवसाय है जो बाकी सारे व्यवसाय बनाता है।
अज्ञात | Unknown

Quote 16. एक शिक्षक कभी भी सच्चाई का दाता नहीं होता; वो हर विद्यार्थी के लिए एक मार्गदर्शक, एक दिशानिर्देशक का काम करता है जिससे कि वो अपने सच को ढूंढ सकें।
ब्रूस ली | Bruce Lee

Quote 17. एक अच्छे शिक्षक की परीक्षा यह नहीं है कि वो अपने छात्रों से कितने प्रश्न पूछ सकता है जिसके कि आसानी से उत्तर दे सकें, बल्कि इसमें है कि वो अपने छात्रों को कितने प्रश्न पूछने के लिए प्रेरित करता है जिसका उत्तर देना उसके लिए मुश्किल हो।
ऐलिस वेलिंगटन रोलिन्स | Alice wellington Rollins

Quote 18. मैंने बातूनी से मौन सीखा, असहिष्णु से सहनशीलता सीखी और निर्दयी से दया सीखी लेकिन फिर भी विचित्र है कि मैं इन शिक्षकों के प्रति कृतघ्न हूँ।
खलील जिब्रान | Khalil Gibran

Quote 19. वो लोग जो जानते हैं कि कैसे सोचना चाहिए, उन्हें शिक्षक की आवश्यकता नहीं है।
महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Quote 20. शिक्षण की क्षमता सम्पूर्ण ज्ञान का विशिष्ठ चिन्ह है।
अरस्तु | Aristotle

Quote 21. हम में से अधिकांश लोगों को सिर्फ पांच से छ: व्यक्ति तक ही याद रख पाते हैं लेकिन एक शिक्षक को हजारों व्यक्ति जीवन पर्यंत याद रखते हैं।
एंडी रूनी | Andy Rooney

Quote 22. एक अच्छा शिक्षक एक उम्मीद जगा सकता है, हमारी कल्पना को सुलगा सकता है और हमारे मन में ज्ञान के प्रति प्रेम बिठा सकता है।
ब्रेड हेनरी | Brad Henry

Quote 23. एक शिक्षक जो कि अपने शिष्यों को ज्ञान अर्जन के लिए प्रेरित किये बिना सिखाने का प्रयास करता है वो वास्तव में ठंडे लोहे पर हथौड़ा चलाता है।
होरेस मन | Horace Mann

Quote 24. मैं ऐसे शिक्षक को पसंद करता हूँ जो कि आपको गृहकार्य के अलावा कुछ और भी घर जाकर सोचने को देता है।
लिली टॉमलिन | Lily Tomlin

Quote 25. एक शिक्षक वो व्यक्ति है जो कुछ भी एक बार नहीं बोलता।
हॉवर्ड नेमेरोव | Howard Nemerov

Quote 26. एक अच्छे शिक्षक को एक अच्छे मनोरंजन करने वाले की तरह पहले अपने दर्शकों को बांधना आना चाहिए उसके बाद ही वो अपना पाठ पढ़ा सकता है।
जॉन हेनरिक क्लार्क़े | John Henrik Clarke

Quote 27. एक सच्चा शिक्षक अपने विद्यार्थियों को उनके अपने ही विरुद्ध व्यक्तिगत प्रभावों से बचाता है।
अमोस ब्रोंसन एल्कॉट | Amos Bronson Alcott

Quote 28. समृद्धि महान शिक्षक है और विपत्ति उससे भी बड़ी शिक्षक है।
विलियम हैज़लिट William Hazlitt

Quote 29. शिक्षा जीवन में सफलता की कूंजी है और शिक्षक अपने विद्यार्थियों के जीवन पर स्थायी प्रभाव डालते हैं।
सोलोमन ओर्टिज़ Solomon Ortiz

Quote 30. तैयारी, व्याख्या, प्रदर्शन, अवलोकन और निरिक्षण किसी भी कर्मचारी को नए कौशल सिखाने के पांच सोपान हैं।
ब्रूस बार्टन Bruce Barton

Quote 31. मैं सोचता हूँ शिक्षण एक उल्लासपूर्ण व्यवसाय होना चाहिए न कि चुनाव वाला।
चार्ल्स शुमर Charles Schumer

Quote 32. एक शिक्षक के पास अधिकतम अधिकार लेकिन न्यूनतम शक्ति होनी चाहिए।
थॉमस सज़ाज़ | Thomas Szasz

Quote 33. घड़ा भर देना नहीं बल्कि आग जलाकर प्रकाश करना ही शिक्षा है।
विलियम बटलर येट्स William Butler Yeats

Quote 34. सीखकर आप सिखा पायेंगे और सिखा कर आप समझ पायेंगे।
लैटिन कहावत Latin Proverb

Quote 35. हम अपने अनुभवों से सिखा सकते हैं लेकिन हम अपने अनुभव नहीं सिखा सकते।
साशा अजेवेडो (Sasha Azevedo)

Quote 36. एक शिक्षक वो है को अपने आप को उत्तरोत्तर अनावश्यक बना दे।
थॉमस कार्रुठेर्स (Thomas Carruthers)

Quote 37. एक शिक्षक जो वास्तव में बुद्धिमान है, आपको उसकी बुद्धिमानी के गृह में प्रवेश का प्रयास नहीं करने देता बल्कि आपको आपके मष्तिष्क की दहलीज़ तक ले जाता है।
खलील जिब्रान (Khalil Gibran)

Quote 38. एक औसत शिक्षक बताता है। एक अच्छा शिक्षक विवरण देता है,एक उत्कृष्ट शिक्षक प्रमाणित करता है और एक महान शिक्षक प्रेरित करता है।
विलियम आर्थर वार्ड (William Arthur Ward)

Quote 39. एक सामान्य शिक्षक जटिलता स्पष्ट करता है जबकि एक प्रतिभावान शिक्षक सरलता प्रकट करता है।
रोबर्ट ब्रौल्ट (Robert Brault)

Quote 40. एक अच्छा शिक्षक दीपक के समान है जो कि दूसरों को प्रकाश देने के लिए स्वयं जलता है।
अज्ञात | Unknown

Quote 41. एक अच्छा शिक्षक सरलीकरण का विशारद और बनावटी सरलता का शत्रु होता है।
लुइस आर्थर बर्मन | Louis Arthur Berman

Quote 42. एक शिक्षक आपके लिए द्वार खोल सकता है लेकिन ये आपका चुनाव है कि आप उस द्वार से प्रवेश करते हैं या नहीं।
अज्ञात | Unknown

Quote 43. किताबें मित्रों में सबसे शांत और स्थायी मित्र होती हैं; सलाहकारों में सबसे सुलभ और बुद्धिमान सलाहकार होती हैं, और शिक्षकों में सबसे धैर्यवान शिक्षक होती हैं।
चार्ल्स विलीयम एलियोट | Charles William Eliot

Quote 44. दो तरह के शिक्षक होते हैं: वो जो आपको इतना भयभीत कर देते हैं कि आप हिल ना सकें, और वो जो आपको पीछे से आपको से थोडा सा थपथपा देते हैं और आप आसमान छू लेते हैं।
रोबर्ट फ्रोस्ट | Robert Frost

Quote 45. जन्म देने वालों से अच्छी शिक्षा देने वालों को अधिक सम्मान दिया जाना चाहिए; क्योंकि उन्होंने तो बस जन्म दिया है ,पर उन्होंने जीना सीखाया है।
अरस्तु | Aristotle

Quote 46. वो आपको प्रेरित करते हैं, आपका मनोरंजन करते हैं, और आप कुछ ना जानते हुए भी बहुत कुछ सीख जाते हैं।
निकोलस स्पार्क्स। Nicholas Sparks

Quote 47. सबसे अच्छे अध्यापक सबसे अच्छे अध्यापक अपने सबसे अच्छे छात्र होकर बनते हैं।
लौरी ग्रे | Laurie Gray

Quote 48. सहिष्णुता के अभ्यास में , किसी का दुश्मन ही उसका सबसे अच्छा शिक्षक होता है।
दलाई लामा | Dalai Lama

Quote 49. यदि मैं दो अन्य लोगों के साथ चल रहा हूँ, तो वो दोनों मेरे गुरु की तरह काम करेंगे। मैं एक की अच्छी बातें पकडूँगा और उनका अनुकरण करूँगा, और दूसरे की बुरी बातें पकडूँगा और उन्हें अपने अन्दर सही करूँगा।
कन्फ्युशीयस | Confucius

Quote 50. अगर किसी देश को भ्रष्टाचार-मुक्त और सुन्दर-मन वाले लोगों का देश बनाना है तो , मेरा दृढ़तापूर्वक मानना है कि समाज के तीन प्रमुख सदस्य ये कर सकते हैं. पिता, माता और गुरु।
अब्दुल कलाम | Abdul Kalam

Quote 51. सफलता एक घटिया शिक्षक है। यह लोगों में यह सोच विकसित कर देता है कि वो असफल नहीं हो सकते।
बिल गेट्स | Bill Gates

Quote 52. प्रेम कर्तव्य से बेहतर शिक्षक है।
अल्बर्ट आइन्स्टीन | Albert Einstein

Quote 53. मैं जीने के लिए अपने पिता का ऋणी हूँ, पर अच्छे से जीने के लिए अपने गुरु का।
लेक्जेंडर महान | Alexander the Great

Quote 54. मैं जैसे-जैसे बड़ा हुआ, मेरे शिक्षक होशियार होते गए।
एली कार्टर | Ally Carter

Quote 55. अनुभव सभी बातों का शिक्षक है।
जुलियस सीजर | Julius Caesar

Quote 56. मेरी माँ एक महान शिक्षक थी, करुण ,प्रेम और निर्भयता की शिक्षक। यदि प्रेम फूल की तरह मीठा है, तो मेरी माँ प्रेम का वह मीठा फूल है।
स्टेवी वंडर Stevie Wonder

Quote 57. अंधे व्यक्ति को किसी शिक्षक की नहीं बल्कि अपने जैसे ही किसी व्यक्ति की ज़रुरत होती है।
हेलेन केलर | Helen Keller

Quote 58. सिखाने की कला आविष्कार में सहायक होने जैसा है।
मार्क वन डोरें (Mark van Doren)

Quote 59. एक विद्यार्थी को सुधारने की कोशिश न करें बल्कि अपने आप में सुधार लायें। एक अच्छा शिक्षक एक कमजोर शिष्य को अच्छा और एक अच्छे शिष्य को उत्कृष्ट बनाता है।
मरवा कॉलिंस (Marva Collins)

Quote 60. शिक्षण के समय तीन चीजें याद रखनी चाहिए: अपनी विषय-वस्तु जानिये; आप किसे सिखा रहे हैं जानिये, और उसके बाद रुचिपूर्ण ढंग से सिखाईये।
लोला माय (Lola May)

Quote 61. सपने की शुरआत उस शिक्षक के साथ होती है जो आपमें यकीन करता है, जो आपको खींचता है, धक्का देता है और आपको अगले पठार तक ले जाता है, कभी-कभार “सच” नामक तेज छड़ी से ढकेलते हुए।
डैन राथर | Dan Rather

Quote 62. चीजों के प्रकाश में आगे बढ़ो, प्रकृति को अपना शिक्षक बनने दो।
विलीयम वर्डस्वर्थ | William Wordsworth

Quote 63. प्रौद्योगिकी सिर्फ एक उपकरण है. बच्चों को एक साथ करने और प्रेरित करने के लिए , शिक्षक सबसे महत्त्वपूर्ण है।
बिल गेट्स | Bill Gates

Quote 64. अनुभव एक महान शिक्षक है।
जॉन लेजेंड | John Legend

Quote 65. एक अच्छा शिक्षक आशा को प्रेरित कर सकता है, कल्पना को प्रज्वलित कर सकता है, और सीखने के प्रति प्रेम पैदा कर सकता है।
ब्रैड हेनरी | Brad Henry

Quote 66. दस लाख लोगों में सिर्फ एक व्यक्ति बिना गुरु की मदद के प्रबुद्ध हो पाता है।
बोधीधर्म | Bodhidharma

Quote 67. मैंने सीखा है कि गलतियाँ भी उतनी ही अच्छी शिक्षक हो सकती हैं जितना कि सफलता।
जैक वेल्च | Jack Welch

Quote 68. एक शिक्षक जो सिद्धांतवादी नहीं है वो महज़ एक ऐसा शिक्षक है जो पढ़ा नहीं रहा है।
गिल्बर्ट के. चेस्टरटन | Gilbert K. Chesterton

Quote 69. पढ़ाने का उद्देश्य बच्चे को बिना अपने गुरु के आगे बढ़ने के काबिल बनाना है।
ऐल्बर्ट हबार्ड | Elbert Hubbard

Quote 70. सबसे महान शिक्षक जिसे मैं जानता हूँ वो खुद काम है।
जेम्स कैश पेनी | James Cash Penney

Quote 71. ऐसे कई अध्यापक होते हैं जो आपको बर्बाद कर सकते हैं। इससे पहले कि आपको पता चले आप अपने इस या उस अध्यापक की धुंधली प्रति बन सकते हैं। आपको खुद अपने दम पर विकसित होना है।
बेरेनैस एबोट | Berenice Abbott

Quote 72. आपकी आखिरी गलती आपकी सबसे अच्छी शिक्षक है।
राल्फ नाडर | Ralph Nader

Quote 73. कोई बुलबुला इतना इन्द्रधनुषी या देर तक उड़ने वाला नहीं है जितना कि एक सफल शिक्षक के द्वारा उड़ाया गया बुलबुला।
विलीयम ओस्लर | William Osler

Quote 74. तो एक अच्छा शिक्षक क्या करता है ? तनाव पैदा करता है- लेकिन सही ,मात्रा में।
डोनाल्ड नोर्मन | Donald Norman

Quote 75. सभी कठिन कार्यों में, एक जो सबसे कठिन है वो है एक अच्छा शिक्षक बनना।
मैगी गैलेघर | Maggie Gallagher

Quote 76. किसी स्कूल कि सबसे बड़ी संपत्ति शिक्षक का व्यक्तित्व है।
जॉन स्ट्रेचन | John Strachan

Quote 77. अगर आप सुनें तो हर कोई शिक्षक है।
डोरिस रोबर्ट्स | Doris Roberts

Quote 78. एक अच्छे शिक्षक को नियम पता होने चाहिए; एक अच्छे छात्र को अपवाद।
मार्टिन एच. फिशर | Martin H. Fischer

Quote 79. बच्चा क्या सीखता है यह उसके शिक्षक से अधिक उसके सहपाठियों की विशेषताओं पर निर्भर करता है।
जेम्स एस. कोलमैन | James S. Coleman

Quote 80. अनुभव एक अच्छा शिक्षक है, लेकिन वो वो दिल दहलाने वाले बिल भेजता है।
मीना ऐन्त्रिम | Minna Antrim

Quote 81. आपको सुबह उठने वाला व्यक्ति होना होगा यदि आप एक शिक्षक बनना चाहते हैं।
अलन्ना उबैक | Alanna Ubach

Quote 82. भय एक अच्छा शिक्षक नहीं है | भय के पाठ जल्द ही भुला दिए जाते हैं।
मारी कैथरीन बेटेसन | Mary Catherine Bateson

Quote 83. जब छात्र बद्तमीजी करें तो क्यों ना शिक्षक को छड़ी मरी जाये?
डायोजींस ऑफ़ सीनोप | Diogenes of Sinope

Quote 84. समय एक महान शिक्षक है, लेकिन दुर्भाग्यवश यह अपने सभी छात्रों को मार देता है।
हेक्टर बेर्लियोज़ | Hector Berlioz

Quote 85. शिक्षक में दो गुण निहित होते हैं एक जो आपको डरा कर नियमों में बाँधकर एक सटीक इंसान बनाते हैं और दूसरा जो आपको खुले आसमा में छोड़ कर आपको मार्ग प्रशस्त करते जाते हैं।

Quote 86. जन्म दाता से ज्यादा महत्व शिक्षक का होता हैं क्यूंकि ज्ञान ही व्यक्ति को इंसान बनाता हैं जीने योग्य जीवन देता हैं।

Quote 87. एक शिक्षक किताबी ज्ञान देता हैं, एक आपको विस्तार समझाता हैं एक स्वयं कार्य करके दिखाता हैं और एक आपको रास्ता दिखाकर आपको उस पर चलने के लिए छोड़ देता हैं ताकि आप अपना स्वतंत्र व्यक्तित्व बना सके. यह अंतिम गुण वाला शिक्षक सदैव आपके भीतर प्रेरणा के रूप में रहता हैं जो हर परिस्थिती में आपको संभालता हैं आपको प्रोत्साहित करता हैं।

Quote 88. हर किसी की सफलता की नींव में एक शिक्षक की भूमिका अवश्य होती हैं। बिना प्रेरणा के किसी भी ऊँचाई तक पहुंचना असम्भव हैं।

Quote 89. हम अपने जीवन के लिए माता पिता के ऋणी होते हैं लेकिन एक अच्छे व्यक्तित्व के लिए हम एक शिक्षक के ऋणी होते हैं।

Quote 90. शिक्षक स्वयं कभी बुलंदियों पर नहीं पहुँचते लेकिन बुलंदियों पर पहुँचने वालो को शिक्षक ही निर्मित करते हैं।

Quote 91. किसी महान देश को महान बनाने के लिए माता पिता एवम शिक्षक ही ज़िम्मेदार होते हैं।

Quote 92. घोर अंधकार से एक शिक्षक ही बाहर निकाल सकता हैं।

Quote 93. एक शिक्षक आपको डराता हैं लेकिन इसमें भलाई छिपी होती हैं।

Quote 94. शिक्षक का व्यक्तितव एक श्री फल के समान होता हैं।

Quote 95. शिक्षक बनना सबसे बड़ा उत्तरदायित्व हैं। शिक्षा ही मनुष्य को देश भक्त या आतंकवादी बना सकती हैं।

Quote 96. एक विद्यालय का नाम अच्छे छात्रों से नहीं बल्कि बेहतरीन व्यक्तित्व वाले शिक्षकों से होना चाहिये।

Quote 97. शिक्षक के पास ही वो कला हैं जो मिट्टी को सोने में बदल सकती हैं।

Quote 98. किताबे एवम अनमोल वचन भी जीवन में शिक्षक की भूमिका अदा करती हैं।

Quote 99. जीवन का मार्ग कठिन हैं. सत्य का विचार कठिन हैं। पर जो हर हाल में सत्य सिखाये। वही एक सफल शिक्षक कहलाये।

Quote 100. चंद शब्दों में नहीं होती बयाँ। ईश्वर के तुल्य हैं जिनकी काया। ऐसे गुरु वर को शत शत नमन। उनके चरणों में जीवन अर्पण।
सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें ।