Adsense responsive

गुरुवार, 29 जून 2017

भूत-प्रेत या बुरी नजर का साया


कई बार हमारे घर में या हमारे आसपास कुछ ऐसी अनपेक्षित घटनाएं होती हैं, जिनके बारे में हम सोच भी नहीं सकते। कई बार घरों में अत्यधिक नकारात्मक ऊर्जा महसूस होती है।परिवार के सदस्य अचानक बीमार होने लगते हैं या कुछ ऐसा होता है जो इनसान के सोचने-समझने की शक्ति से परे हो जाता है।
भूत-प्रेत या बुरी नजर का साया वैज्ञानिक युग में ऐसी बातों को सिरे से खारिज कर दिया जाता है, लेकिन प्राचीन ग्रंथों में या पराभौतिक दुनिया में इनका कारण और इनसे बचने का उपाय भी बताया गया है। लोग माने या न मानें लेकिन किसी दूसरी दुनिया की शक्तियां, भूत-प्रेत या बुरी नजर का साया पड़ता जरूर है। 

पाश्चात्य देशों के कई वैज्ञानिक शोध इस बात को साबित भी कर चुके हैं कि हमारे आसपास कई बार ऐसी नेगेटिव शक्तियां आ जाती हैं जो हमारे पॉजिटिव औरा को प्रभावित करती हैं। आइये आज कुछ ऐसे ही विषय पर करते हैं बात क्या कभी आपके साथ ऐसा होता है कि खुशी के माहौल में भी मन अचानक उदास सा हो जाता है। सबकुछ ठीक होते हुए भी, पूरे परिवार के साथ होते हुए भी अकेलापन महसूस होने लगता है। अचानक डिप्रेशन का अनुभव होता है। घर की चीजें गायब होने लगे। बार-बार एक ही तरह से आर्थिक नुकसान होने लगे तो समझिए आपके आसपास नेगेटिव शक्तियां आ रही हैं। ऐसा हो तो समझें कुछ गड़बड़ है घर से अचानक वस्तुओं का गायब होना और फिर उनका अपने आप ही मिल जाना। घर में कोई अपरिचित वस्तु का मिलना।

 कोई वस्तु जैसे छुरा, लोहे की कोई वस्तु, अनजाना बर्तन आदि। घर में ऐसा अनुभव होना जैसे परिवार के सदस्यों के अलावा भी कोई और है। किसी की उपस्थिति महसूस होना। परिवार के सदस्यों का बार-बार बीमार होना। कई बार बीमारी लंबी चलना। इलाज के बाद भी ठीक न होना। रात में अचानक घबराकर नींद खुल जाना घर में यदि पौधे लगा रखे हैं तो देखभाल के बावजूद उनका सूख जाना। तुलसी, दुर्वा, पीपल के पत्तों पर सर्प जैसे निशान उभरना। घर में पाले हुए कुत्ते, बिल्ली का बेवजह भौंकना। रात में उनका चौकन्ने रहते हुए जागना। रात के समय कमरों के तापमान में अचानक घट-बढ़ होना। रात में अचानक घबराकर नींद खुल जाना। नींद में किसी का स्पर्श अनुभव होना। द्वार खुलने की ध्वनि सुनाई देना। ऐसा महसूस हो तो क्या करें? सुबह और शाम के समय घर के अंतर कपूर में 2-3 लौंग डालकर नियमित रूप से जलाएं। घर में अगरबत्ती लगाना बंद कर दें क्योंकि उसमें बांस होता है। इसकी जगह धूप बत्ती लगाएं। पूरे घर में गौमूत्र और गंगाजल का छिड़काव करें। प्रतिदिन घर में नमक के पानी का पोंछा लगाएं। घर के कोनों में एक-एक चुटकी नमक रख दें। हनुमान और दुर्गा की आराधना करें। शाम के समय इनके चित्र या प्रतिमा के सामने घी का दीपक लगाएं। अपने ईष्ट देव, पितरों और गुरु का नियमित ध्यान करें।


सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें