Adsense responsive

बुधवार, 22 फ़रवरी 2017

शिव की इस खास पूजा से दोगुनी हो जाएगी आपकी आमदनी



 This will double your income by special worship of Shiva

यूं तो महादेव को केवल ओम नम शिवाय मंत्र से भी प्रसन्न किया जा सकता है लेकिन शास्त्रों के अनुसार अगर कुछ खास मंत्रों का उच्चा‍रण लंबे समय तक किया जाए तो न केवल आपकी आमदनी में जबरदस्त बढोतरी होने लगती है बल्कि मां लक्ष्मी भी प्रसन्न रहती है।

इस पूजा से कमाई हो जाएगी डबल-

महादेव के जरिए लक्ष्मी को प्रसन्न करवाने के लिए किसी भी दिन घर में पारद शिवलिंग की स्थापना करें और उसकी यथा विधि पूजन करें। इसके बाद नीचे लिखे मंत्र का 108 बार जप करें-ऐं ह्रीं श्रीं ऊं नम: शिवाय: श्रीं ह्रीं ऐं। उसके बाद 3 महीनों में ही आपके घर पैसों की साक्षात बारिश होने लगेगी। प्रत्येक मंत्र के साथ बिल्वपत्र पारद शिवलिंग पर चढ़ाएं, बिल्वपत्र के तीनों दलों पर लाल चंदन से क्रमश: ऐं, ह्री, श्रीं लिखें। अंतिम 108 वां बिल्वपत्र को शिवलिंग पर चढ़ाने के बाद निकाल लें तथा उसे अपने पूजन स्थान पर रखकर प्रतिदिन उसकी पूजा करें। कुछ ही दिनों में आपको असर दिखने लगेगा।



शिव महिम्न स्त्रोत से जलाभिषेक देगा संतान सुख-महादेव की खास पूजा-अर्चना से संतान सुख भी मिलने लगता है। सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद भगवान शिव का पूजन करें, इसके पश्चात गेहूं के आटे से 11 शिवलिंग बनाएं। अब प्रत्येक शिवलिंग का शिव महिम्न स्त्रोत से जलाभिषेक करें। इस प्रकार 11 बार जलाभिषेक करें, उस जल का कुछ भाग प्रसाद के रूप में ग्रहण करें। यह प्रयोग लगातार 21 दिन तक करें। गर्भ की रक्षा के लिए और संतान प्राप्ति के लिए गर्भ गौरी रुद्राक्ष भी धारण करें। इसे किसी शुभ दिन शुभ मुहूर्त देखकर धारण करें। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार 100 दिनों संतान के योग बनने लग जाते हैं।

अच्छा स्वास्थ्‍य भी देती है शिवाराधना -
सोमवार को पानी में दूध व काले तिल डालकर शिवलिंग का अभिषेक करें, अभिषेक के लिए तांबे के बर्तन को छोड़कर किसी अन्य धातु के बर्तन का उपयोग करें। अभिषेक करते समय ॐ जूं स: मंत्र का जाप करते रहें। इसके बाद भगवान शिव से रोग निवारण के लिए प्रार्थना करें और प्रत्येक सोमवार को रात में सवा नौ बजे के बाद गाय के सवा पाव कच्चे दूध से शिवलिंग का अभिषेक करने का संकल्प लें। इस उपाय से बीमारी ठीक होने में लाभ मिलता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें