Adsense responsive

शनिवार, 15 अक्तूबर 2016

Interesting facts and information

1. पहले मुर्गी आई या अंडा: अगर एक शब्द में इसका उत्तर दिया जाए तो इसका उत्तर “मुर्गी” होगा आइए आपको समझाते हैं इसके पीछे का विज्ञान ! पृथ्वी पर जीवन की उत्पति समुंद्र से शुरू हुई है तथा सर्वप्रथम पृथ्वी पर एक कोशिकीय जीव बने थे तथा जीवन का विकास होते होते बहु-कोशिकीय जीव बने यह कोई एक-दो वर्ष में संभव नही हुआ बल्कि करोड़ों-अरबों वर्ष तक पृथ्वी पर हुए जटिल परिवर्तनों के कारण संभव हो सका है समुंद्री जीवों के बाद रेंगने वाले जीव आए जैसे कि सांप तथा उसके बाद डायनासौर अस्तित्व में आए इसी प्रकार जीवन का विकास मुर्गी जैसे जीव तक पहुंचा अब अंदाज़ा लगाया गया कि अंडा पहले बना होगा तथा उससे मुर्गी निकली होगी लेकिन लन्दन के शेफील्ड और वारविक विश्विद्यालय के वैज्ञानिकों ने अपनी रिसर्च के दौरान पाया कि अंडे के खोल को बनने के लिए ओवोकलाइडीन नामक प्रोटीन की आवश्यकता होती है जो मुर्गी के अंडाशय में पैदा होता है जो इस बात को प्रमाणित करता है कि अंडे से पहले मुर्गी नामक जीव का विकास हुआ था
2. हथेलियों पर बाल क्यों नही उगते: मनुष्य के सारे शरीर पर बाल होते हैं कहीं पर ये बहुत अधिक विकसित होते हैं तो कहीं पर मामूली से हथेलियों तथा पांव के निचे के भाग पर बाल क्यों नही उगते इस प्रशन के उत्तर से पूर्व आपको पता होना चाहिए कि बाल आखिर होते क्या हैं बाल हमारे शरीर की मृत कोशिकाएं हैं जो बालों के रूप में बाहर निकलती हैं हमारे सारे शरीर की चमड़ी बहुत ही मुलायम होती हैं और अगर आप किसी सूक्षम दर्शी की मदद से देखेंगे तो पाएँगे कि हमारी त्वचा में सूक्षम छिद्र होते हैं जो पसीने तथा मृत कोश्काओं को शरीर से बाहर निकालने का कार्य करते हैं जबकि हमारी हथेलियों में एक अन्य त्वचा की परत होती है जो शरीर के बाकि अंगो की अपेक्षा सख्त होती है जिस कारण वहाँ बाल नही उग पाते
3. क्या अकबर बीरबल की कहानियां वास्तविक हैं: अकबर तथा बीरबल की कहानियां बहुत ही लोकप्रिय हैं लेकिन ये सभी असत्य हैं तथा लोगों द्वारा बनाई गई मनगढ़ंत कहानियों में से एक हैं हालाँकि राजा अकबर अपने नवरत्नों में से एक बीरबल की हाजिर जवाबी की तारीफ करता था इन कहानियों का इतनी लोकप्रियता पाने का एक ओर कारण अकबर का मुस्लिम तथा बीरबल का हिन्दू होने के बावजूद एक दुसरे पर इतना विश्वास दर्शाना भी है
4. पहले अकबर की मृत्यु हुई या बीरबल की: बीरबल वर्ष 1586 में मृत्यु को प्राप्त हुआ जबकि अकबर 1605 में, बीरबल सैन्य तथा प्रशासनिक कार्यों का भार संभाले हुए था बीरबल को जब अकबर ने हजारों सैनिकों के साथ जैन खां की मदद करने के लिए भेजा गया तब अफगानियों द्वारा सभी सैनिकों तथा बीरबल की हत्या कर दी गई अकबर की फ़ौज बीरबल का मृत शरीर भी नही खोज पाई थी
5. यदि चंद्रमा पर एक भयंकर विस्फोट किया जाए जो पृथ्वी से दिखाई दे सके तो क्या उसकी आवाज भी हम तक पहुंचेगी: नही, क्योंकि ध्वनि को गति करने के लिए किसी माध्यम की आवश्यकता होती है लेकिन पृथ्वी तथा चंद्रमा के मध्य निर्वात है जबकि प्रकाश को किसी माध्यम की आवश्यकता नही होती जिस कारण हम उस विस्फोट को देख तो पाएँगे लेकिन उसकी आवाज को नही सुन सकते
6. क्या पुनर्जन्म होता है: हर वस्तु या क्रिया के पीछे कोई ना कोई ऊर्जा होती है ठीक उसी प्रकार मनुष्य को भी कोई ऊर्जा चला रही है तथा ऊर्जा को ख़त्म नही किया जा सकता मात्र एक से दूरे रूप में परिवर्तित किया जा सकता है यह कथन भौतिकी रूप से शत प्रतिशत सत्य है लेकिन विज्ञान ने ना तो कभी पुनर्जन्म को माना है और ना ही नकारा है विज्ञान इस पर मौन धारण किए हुए है
7. चीटियाँ पंक्ति बनाकर क्यों चलती हैं: प्रत्येक चींटी चलते हुए अपने पीछे एक विशेष प्रकार की गंध (फेरोमोन) छोडती हुई चलती हैं जिसका अनुसरण कर पीछे वाली चींटी चलती है इसी प्रक्रिया को प्रत्येक चींटी दोहराती है तथा एक पंक्ति का रूप धारण कर लेती है किसी कारण वश यदि वह गंध कहीं से कट जाए या या कोई चींटी भटक जाए तो वह एक नया रास्ता इख्तियार करती है जिस कारण एक नई पंक्ति बन जाती है रास्ता बनाकर आगे चलने वाली चींटी को लीडर कहा जाता है
8. आसमान नीला क्यों दिखाई देता है: आसमान को अगर रात में देखें तो यह काला दिखाई देता है जो कि इसका वास्तविक रंग है लेकिन दिन में यह सफेद ना दिखाई देकर नीला दिखाई देता है जिसका कारण है सूर्य से आ रही किरणों (जो कि सात रंगों को समेटे हुए हैं) का बिखरना या प्रवर्तित होना है जो कि क्षोभ मंडल में उपस्थित धुल कणों, गैसों तथा पानी की बूंदों के कारण होता है सबसे ज्यादा बिखरने वाला रंग नीला तथा सबसे कम बिखरने वाला रंग लाल है जिस कारण नीला रंग हमारी आँखों तक सबसे अधिक पहुँचता है तथा आसमान हमें नीला दिखाई देता है रात के समय सूर्य का प्रकाश नही होता जिस कारण कोई रंग नही बिखरता तथा हमें क्षोभ मंडल के आर-पार दिखाई देता है तथा काला अन्तरिक्ष दिखाई देता है
9. इन्टरनेट पर सबसे पहली वेबसाइट कौन सी थी: इन्टरनेट की सबसे पहली वेबसाइट (cern.ch) थी जो कि वर्ष 1991 में बनाई गई थी यह वेबसाइट आज भी ऑनलाइन है यह वेबसाइट यूरोपीय नाभिकीय अनुसंधान संगठन की है लेकिन इसकी पहचान विश्व की प्रथम वेबसाइट के रूप में अधिक है
10. क्या वास्तव में एलियन हैं: शत प्रतिशत, एलियन हैं यद्धपि जब तक विज्ञान को भ्रम था कि सूर्य हमारी आकाशगंगा का केंद्र है तब तक एलियन होने पर संदेह था लेकिन जब यह पाया गया कि सूर्य मंदाकिनी के करोड़ों तारों में से एक है तथा मंदाकिनी के केंद्र से दूर स्थित अपना अस्तित्व बनाए हुए है तब एलियन के ना होने जैसा भ्रम भी समाप्त हो गया हालाँकि पृथ्वी जैसे दुसरे ग्रह पर मनुष्य जितने बुद्धिमान जीव हो या ना हों लेकिन जीवन अवश्य है
11. क्या पृथ्वी का विनाश होगा: निश्चित ही होगा, पृथ्वी तथा उस पर विकसित जीवन सूर्य पर निर्भर है आज से लगभग 5 अरब वर्ष पश्चात सूर्य जो कि पृथ्वी पर जीवन का कारण है स्वयं ही पृथ्वी को निगल जाएगा
12. क्या समय यात्रा संभव है: भारत के बच्चों तथा आम लोगों में इस विषय की जानकारी, रुचि तथा इस के बारे में जानने की सबसे अधिक जिज्ञासा तब उत्पन्न हुई जब उन्होंने अपने सुपर हीरो “शक्तिमान” को समय यात्रा कर अपने बचपन में जाकर अपने माता-पिता तथा अपने बचपन स्वरुप से मिलते हुए देखा लेकिन क्या वास्तव में ऐसा संभव है इसका हाँ या ना में उत्तर देना थोडा कठिन है हो सकता है भविष्य में ऐसा संभव हो लेकिन प्रशन ये उठता है कि अगर भविष्य में समय यात्रा करना संभव होगा तो भविष्य से कोई हमसे मिलने क्यों नही आया ये भी हो सकता है कि समय यात्री केवल दृश्य मात्र देख सके व कोई हस्तक्षेप करने में असमर्थ हो विज्ञान फिलहाल इस प्रशन का उत्तर दे पाने में सक्षम नही है
13. नाखून क्यों बढ़ते हैं: बालों की तरह ही नाखून भी शरीर की मृत कोशिकाएं हैं जो शरीर से बाहर निकलती हैं आम तौर पर समझा जाता है कि नाखूनों के किनारे बढ़ते हैं लेकिन यह सत्य नही है असल में नाखून की जड़ जो कि त्वचा के अन्दर धंसी हुई होती है वह बढती है जब नई कोशिकाओं का विकास होता है तो पुरानी कोशिकाओं को बाहर धकेलने की प्रक्रिया आरम्भ होती है नई कोशिकाएं पूरे के पूरे नाखून को धकेलती है तथा हमें नाखून के किनारे धीरे धीरे बढ़ते हुए प्रतीत होते हैं कैरोटीन नामक प्रोटीन से बने नाखून सख्त होते हैं तथा उँगलियों को सहारा भी देते हैं जिस कारण हम पेन/पेंसिल या अन्य किसी वस्तु को पकड़ पाने में सक्षम होते हैं
14. क्या नटवरलाल ने ताजमहल को बेच दिया था: जी हाँ... नटवर लाल जिसका असली नाम मिथिलेश कुमार श्रीवास्तव था, ने ताजमहल ही नही बल्कि लाल किला तथा राष्ट्रपति भवन को बेच कर करोड़ो की ठगी की थी नटवरलाल ठग बनने से पहले वकालत करता था उसका दावा था कि अगर सरकार कहे तो वह ठगी कर इतना पैसा एकत्रित कर सकता है कि भारत पर जितना भी विदेशी कर्ज है उसे उतार सके
15. मनुष्य के शरीर का सबसे व्यस्त अंग कौन सा है: मनुष्य का शरीर एक प्रकार की मशीन है जो निरंतर चलती रहती है सामान्य तौर पर देखा जाए तो मनुष्य शरीर का प्रत्येक अंग लगभग हर समय व्यस्त ही रहता है लेकिन अगर सबसे व्यस्त अंग की बात की जाए तो इसका उत्तर प्राय: दो आधारों पर दिया जाएगा कुछ बुद्धिजीवी इसका उत्तर “मस्तिष्क” को मानते हैं जो कि हर समय व्यस्त रहता है यहाँ तक कि सोते समय भी हमारे मस्तिष्क में क्रियाएं होती रहती हैं जिन्हें हम “सपने” के रूप में भी देखते हैं इसलिए अगर कार्यों की संख्या के आधार पर देखा जाए तो मस्तिष्क ज्यादा व्यस्त है और अगर कार्य की निरंतरता तथा ऊर्जा के आधार पर देखा जाए तो “हृदय” अधिक व्यस्त है (उत्तर में विरोधाभास है)

16. क्या राम की कोई बहन थी: दक्षिण में प्रचलित रामायण के अनुसार राम की एक बड़ी बहन भी थी जिसका नाम शांता था जो कि राम, लक्षमण, भारत तथा शत्रुगन चारो भाइयों में सबसे बड़ी थी शांता के जन्म के कुछ वर्ष पश्चात राजा दशरथ - रानी कौशल्या ने अपनी इस पुत्री को राजा रोमपद और उनकी पत्नी वर्षिणी को गोद दे दिया था वर्षिणी राम की मौसी अर्थात कौशल्या की बहन थी शांता कभी अयोध्या नही आई इस विषय में एक अन्य लोककथा प्रचलित है जिसके अनुसार शांता के जन्म पश्चात अयोध्या में अकाल पड़ गया था जिसका कारण शांता को माना जाने लगा इस अकाल से बचने के लिए राजा दशरथ ने इस कन्या को वर्षिणी को में दान दे दिया था तथा दोबारा किसी अकाल से बचने के लिए दशरथ ने शांता को कभी भी अयोध्या नही बुलाया आपको बता दें कि दुनिया भर में अनेकों रामायण प्रचलित हैं जिनमें अलग अलग तथ्य मिलते हैं इन प्रचलित रामायण की संख्या 300 के भी पार है।सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें