Adsense responsive

शुक्रवार, 21 अक्तूबर 2016

500 साल पुराना यह बरगद का पेड़, कहलाता है मौत का पेड़



पंजाब के जिला फतेहगढ़ साहिब के चरोटी कलां गांव में एक एेसा बरगद है जिसकी जड़ें जिस खेत में जाती हैं वहां किसान खेती बंद कर देते हैं। इतना ही नहीं लोगों की मान्यता है कि अगर कोई इस पेड़ की जड़ें काटता है तो उसकी या उसके परिवार के किसी न किसी सदस्य की मौत हो जाती है। यह जगह चंडीगढ़ से करीब 40 किमी दूर है। यहां के लोगों ने बताया कि सालों से इस मान्यता के चलते खेती पर संकट बना हुआ है। कोई भी इस पेड़ को काटने की हिम्मत नहीं करता।




लोग बरगद के पेड़ को ही समर्पित कर देते हैं अपने खेत

गांव वालों के मुताबिक बरगद का यह पेड़ सैकड़ों साल पुराना है जो लगातार बढ़ रहा है। गांव वाले बताते हैं कि पहले तो हमें इस पेड़ की इस तरह की कोई जानकारी नहीं थी। लेकिन, जब एक किसान के खेत में इस पेड़ के जड़ें पहुंची तो उसने वो काट दीं, कुछ ही दिनों बाद उसकी मौत हो गई। इसे श्रद्धा कहें या अंधविश्वास लेकिन गांव वाले इसे काटने की भूल नहीं करते बल्कि चुपचाप अपनी जमीन छोड़ देते हैं जिस जगह ये पेड़ उगा है।

ये है मान्यता



बरगद के पेड़ के समीप शिव का मंदिर है। लोगों का कहना है कि सैकड़ों साल पहले इस जगह पर एक संत आए थे जिन्होंने संतान प्राप्ति के लिए एक किसान को भस्म दी थी। उसकी पत्नी ने से इसे खाने से मना कर दिया। उस किसान ने यह भस्म संत को लौटाना चाही तो संत ने भस्म लेने से मना कर दिया। किसान ने भस्म को जमीन पर रख दिया। कहते हैं इसी स्थान पर एक बरगद का पौधा उग आया जो सदियों से विराट रूप धारण करता जा रहा है। ऐसी मान्यता है कि यहां पर सच्चे मन मन्नत करने पर इंसान की हर मुराद पूरी होती है।



दूर से बरगद के पेड़ का दृश्य

क्या कहते हैं गांव के लोग

गांव के लोगों का कहना है कि बरगद का यह पेड़ पांच सौ साल से अधिक पुराना है। उनका कहना है कि इस पेड़ की जड़ें जिस किसी के खेत में जाती है वह खेत को छोड़ देता है। गांव के अस्सी वर्षीय बजूर्ग करनैल सिंह ने इस पेड़ की मान्यता के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि अनहोनी और मौत के डर से इस पेड़ को कोई नहीं काटता। इसके बढ़ने पर भूमि को छोड़ देना ही गांव के लोगों के हित में है।सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें