Adsense responsive

शनिवार, 13 अगस्त 2016

मनुस्मृति- भूल कर भी कभी इन 7 लोगों का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए



हंसी-मजाक हमारे जीवन का एक हिस्सा है। अगर ये सब न हो तो जिंदगी बहुत सूनी-सूनी लगती है। यह भी कहते हैं कि हंसना मनुष्य होने की निशानी है। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो दूसरों का मजाक उड़ा कर हंसते हैं। ये बात ठीक नहीं है।


हमें सामाजिक दायरों में रहते हुए ही किसी का मजाक उड़ाना चाहिए। जिस मजाक से किसी का अपमान हो या उसे दुख पहुंचे, ऐसा काम भूल कर भी नहीं करना चाहिए। मनु स्मृति में बताया गया है कि हमें किन लोगों का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए। ये 7 लोग इस प्रकार हैं
श्लोक

हीनांगनतिरिक्तांगन्विद्याहीनान्वयोधिकान्।
रूपद्रव्यविहीनांश्च जातिहीनांश्च नाक्षिपेत्।
अर्थ- इन लोगों पर व्यंग्य (मजाक) नहीं करना चाहिए, 1. जो हीन अंग वाले हों (जैसे- अंधा, काना, लूला-लंगड़ा आदि), 2. अधिक अंग वाले हों (जैसे पांच से अधिक अंगुलियों वाले), 3. अशिक्षित, 4. आयु में बड़े, 5. कुरूप, 6. गरीब या 7. छोटी जाति के हों।
1. हीन (कम) अंग वाले

हीन अंग वाले लोग यानी जिनके शरीर का कोई न कोई हिस्सा या तो है ही नहीं या अधूरा है जैसा- लूला, लंगड़ा, काना आदि। कुछ लोग तो जन्म से ही हीन अंग वाले होते हैं, वहीं कुछ लोग दुर्घटना में अंगहीन हो जाते हैं। मनु स्मृति के अनुसार, ऐसे लोगों का कभी भी मजाक नहीं उड़ाना चाहिए, क्योंकि कम अंग होने के कारण वे पहले से ही सहानुभूति के पात्र होते हैं। नैतिकता के नाते हमें ऐसे लोगों की मदद करना चाहिए न कि उनका मजाक उड़ाना चाहिए। यदि हम ऐसे लोगों का मजाक उड़ाते हैं तो ये दुखी होते हैं। इसका बुरा परिणाम किसी न किसी रूप में हमें भविष्य में मिलता है। इसलिए हीन अंग वालों का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।
2. अधिक अंग वाले

कुछ लोगों के शरीर में अधिक अंग होते हैं जैसे किसी के हाथ या पैर में 6 उंगलियां होती हैं। मनु स्मृति के अनुसार शरीर में अधिक अंग होने पर भी किसी का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए, क्योंकि वह तो जन्मजात ही ऐसा है। भगवान ने उसे इसी रूप में धरती पर भेजा है। यदि हम ऐसे लोगों का मजाक उड़ाते हैं तो समझना चाहिए कि हम परम पिता परमेश्वर का मजाक उड़ा रहे हैं। ऐसे लोगों का मजाक उड़ाने में विवाद की स्थिति भी बन सकती है। नैतिकता के आधार पर ही ऐसे लोगों का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।
3. अशिक्षित

भूल से ही हम कई बार बिना सोचे-समझे किसी का भी मजाक उड़ा देते हैं। यह शिष्टाचार के विरुद्ध है, हमें ऐसा नहीं करना चाहिए। यदि कोई व्यक्ति अनपढ़ यानी अशिक्षित है और वह किसी मुश्किल में है तो हमें उसकी मदद करना चाहिए न कि मजाक उड़ाना चाहिए। उस व्यक्ति के अशिक्षित होने के पीछे पारिवारिक या सामाजिक कारण हो सकते हैं। ऐसे व्यक्ति का मजाक उड़ा कर हम उसे दुख ही पहुंचाते हैं जबकि यह हमारा नैतिक दायित्व है कि भूल कर भी हमारी वजह से कोई दुखी न हो।
4. आयु में बड़े

जो भी व्यक्ति हमसे उम्र में बड़ा है, वह आदर-सम्मान करने योग्य है। बचपन से हमें यही सिखाया जाता है। उम्र अधिक होने के कारण कई बार बुजुर्ग ऐसे काम कर बैठते हैं, जिसके कारण उनका मजाक उड़ाया जाता है, जो कि ठीक नहीं है। कई बार बुजुर्ग घर में ही ऐसी घटनाओं का शिकार होते हैं।
अगर भूल कर कभी किसी बुजुर्ग से ऐसा काम हो भी जाए तो हमें मजाक न उड़ाते हुए उनके साथ सहानुभूति रखनी चाहिए और उनकी मुश्किल समझने की कोशिश करनी चाहिए। ऐसे में उन्हें अपनेपन का अहसास होगा और वे हमारे बीच सुख का अनुभव करेंगे। इसलिए भूल कर भी कभी अपने से उम्र में बड़े व्यक्ति का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।
5. कुरूप

हर इंसान का चेहरा, रंग-रूप व शारीरिक बनावट एक-दूसरे से अलग होती है। किसी का चेहरा गोरा होता है तो किसी का काला। कुछ लोग सुंदर होते हैं तो कुछ के चेहरा इसके विपरीत होता है। कोई व्यक्ति अगर काला है या वो सुंदर नहीं है तो इसमें उसका कोई दोष नहीं होता, यह सब तो जन्म से ही होता है।
हमें ऐसे व्यक्ति के रंग-रूप को ध्यान में न रखते हुए उसके चरित्र के गुणों को देखना चाहिए। हो सकता है कि जो व्यक्ति सुंदर नहीं है, वह चरित्रवान हो। चरित्र की सुंदरता ही मूल सुंदरता है शरीर की नहीं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमें किसी व्यक्ति के रंग-रूप के कारण उसका मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।
6. गरीब

कोई भी इंसान अपनी मर्जी से गरीब नहीं होता। कुछ लोग जन्म से ही अमीर होते हैं, वहीं कुछ अपनी मेहनत से पैसा कमाते हैं। कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो बहुत मेहनत करने के बाद भी गरीब ही रहते हैं। गरीब इंसान मेहनत-मजदूरी करता है और अपने परिवार को पालता है। वह किसी से मदद की उम्मीद भी नहीं करता और अपने आत्मसम्मान को बचाते हुए जीवन जीता है। इसलिए मनु स्मृति के अनुसार, कभी भी किसी गरीब इंसान का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।

7. छोटी जाति के लोग

जाति आधारित व्यवस्था भगवान ने नहीं बल्कि इंसानों ने ही बनाई है। भगवान के लिए तो सभी इंसान एक समान हैं। जब हवा, पानी, धरती और आग इंसानों में भेदभाव नहीं करती तो हमें भी जाति के आधार पर किसी से भेदभाव नहीं करना चाहिए और न ही किसी का मजाक उड़ाना चाहिए। कोई भी इंसान अपनी मर्जी से जाति का चुनाव नहीं करता, वह तो सामाजिक परिस्थितियों के कारण किसी जाति विशेष का हिस्सा बन जाता है। मनु स्मृति के अनुसार, भूल कर भी किसी छोटी जाति के व्यक्ति का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए।सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें