Adsense responsive

रविवार, 10 जुलाई 2016

आप भी देख सकते है तीसरी आँख से..जानिए कैसे!

आमतौर पर सब यही जानते है कि तीसरी आँख सिर्फ और सिर्फ भगवान शिव के पास होती है, और जब उनको घोर क्रोध आता है तो उनकी तीसरी आँख खुल जाती है ,पहाड़ टूटने लगते है, समुद्र में उछाल आने लगता है। शायद आप इस बात से अंजान हैं कि हर इंसान के पास तीसरी आँख होती है, जिसके बारे में न तो प्रत्येक व्यक्ति को आभास हैं, लेकिन हाँ इस तीसरी आँख को खोला जा सकता है और इसके द्वारा देखा भी जा सकता है, हो सकता है ये सुनकर आपके कान सन्न रह जाएंगे कि जब पांचों इन्द्रियां मिलती है दिमाग में एक लौ जलती है।
सबसे पहले बता दें कि ये तीसरी आँख हर प्रत्येक व्यक्ति के दिमाग में स्थित होती है। तीसरी आँख ही होती जिसकी वजह से आप दोनों आँखों से देख सकते है। जब ऊर्जा सामान्य आँखों में बहना बन हो जाती है, तो वे तीसरी आँख में बहती है और उस समय आप चाहकर भी अपनी सामान्य आँखों से देख नहीं सकते। इसके लिए आपको महा मृत्युंजय का जाप करना पड़ेगा जिसके द्वारा आप अपनी तीसरी आँख खोलते है।
शरीर शास्त्र का मानना है कि तीसरी आँख जैसा कोई भी अंग शरीर में नहीं होता, इसका मुख्य कारण है कि शरीर में तीसरी आँख दुसरे शरीर का हिस्सा होती है, जिसकी वजह उसका दिखना नामुमकिन होता है। जब इंसान कि मृत्यु होती है तो उसका असली शरीर मरता है लेकिन दूसरा शरीर जिसे जीव आत्मा का नाम दिया गया है, तब भी जिन्दा रहती है। अगर आप तीसरी आँखों से किसी व्यक्ति को देखेंगे तो आप उसकी आत्मा तक को देख सकते हो। इसीलिए तंत्र मंत्र की विद्या प्राप्त करने वाले ही भूत बाधा दूर कर सकते क्योंकि वे आत्मा को अपनी तीसरी आँख द्वारा देखते है।
अब जानिये तीसरी आँख से कैसे देखा जा सकता है:- अगर आप अपनी दोनों आँखों को ठहरा देते है तो, ऊर्जा रुक जाती है
जानकारी के लिए बता दें कि कम्पन होना या गति होना ऊर्जा का कारण होता है, अगर ऐसा नहीं होता तो आपकी आँखे एक मृत व्यक्ति कि आँखों के समान हो जाती है। 
सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें