Adsense responsive

शुक्रवार, 20 मई 2016

पत्थर मारकर करते है जांच, गर्भ में लडका या लडकी



लोहरदगा। सरकार ने कन्या भू्रण हत्या के बढते मामलों के कारण गर्भ में पल रहे बच्चे का लिंग परीक्षण करने पर प्रतिबंध लगा रखा है। हमारे देश में एक जगह ऐसी है जहां बिना किसी प्रतिबंध के गर्भ में पल रहे बच्चे का बारे में बता दिया जाता है कि वह लडक़ा है या लडक़ी। सुनकर आपको भी हैरानी होगी कि ऐसा कैसे हो सकता है, लेकिन ये बात सच है।
जी हां, यह अनोखा तरीका झारखंड के लोहरदगा स्थित खुखरा गांव में के लोग इस्तेमाल करते हैं, जिसमें एक पैसा भी खर्च नहीं होता।




लोहरदगा में एक पहाड़ है जिसपर चांद जैसी आकृति बनी हुई है जो गर्भ में पल रहे बच्चे के बारे में बता देता है कि लडक़ा है या लडक़ी। बताया जा रहा है कि ये पहाड़ पिछले 400 वर्षों लोगों को उनके भविष्य के बारे में बता रहा है।
स्थानीय लोगों के अनुसार गर्भवती महिला एक निश्चित दूरी से खड़ी होकर इस पहाड़ी पर बने चांद की ओर पत्थर मारती हैं। अगर पत्थर चंद्रमा के मध्य जाकर लगे तो समझा जाता है कि गर्भ में लडक़ा है और यदि वह पत्थर चंद्रमा के बाहर लगे तो माना जाता है कि लडक़ी पैदा होगी। अब इस बात में कितनी सच्चाई है यह तो हम नहीं जानते लेकिन वहां रहने वाले लोगों में इस पहाड़ी के प्रति अटूट श्रृद्धा रखते हैं।






सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें