Adsense responsive

सोमवार, 11 अप्रैल 2016

Famous Devi Temple On Hills


यह है पहाड़ों पर बसे देवी के 10 प्रसिद्ध मंदिर


1. कनक दुर्गा मंदिर, आंध्र प्रदेश (Kanaka durga temple, Vijayawada, Andhra pradesh)
यहां पहाड़ी को लेकर मान्यता है कि अर्जुन ने यहीं पर भगवान शिव की तपस्या की थी और उनसे पाशुपतास्त्र प्राप्त किया था।
कहते है इस मंदिर की देवी प्रतिमा स्वयं प्रकट हुई थी, इसलिए इसे बहुत ख़ास और शक्तिशाली माना जाता है।

2. तारा देवी मंदिर, हिमाचल प्रदेश (Tara devi temple, Shimla, Himachal pradesh)
कहा जाता है कि यह मंदिर लगभग 250 साल पहले बनाया गया था।
यहां स्थापित देवी की मूर्ति को लेकर मान्यता है की तारा देवी की मूर्ति प. बंगाल से लाई गई थी।

3. चामुंडेश्वरी मंदिर, कर्नाटक (Chamundeshwari temple, Karnataka)
मान्यताओं के अनुसार, इस मंदिर की स्थापना 12वीं सदी में की गई थी।
मंदिर परिसर में राक्षस महिषासुर की एक 16 फुट ऊंची प्रतिमा स्थापित है। जो यहां के मुख्य आकर्षणों में से एक है।

4. मनसा देवी मंदिर, उत्तराखंड (Mansa devi temple, Haridwar, Uttarakhand)
मान्यताओं के अनुसार मनसा देवी की उत्पत्ति ऋषि कश्यप के मन से हुई थी।
यहां स्थापित पेड़ पर धागा बांधने से मनोकामना जरूर पूरी होती है। जिसके बाद पेड़ से एक धागा खोलने की परम्परा है।

5. अधर देवी मंदिर, राजस्थान (Adhar devi temple, Mount abu, Rajasthan)
अधर देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए भक्तों को लगभग 365 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती है।
यहां मान्यता है कि अगर कोई भक्त पूरी श्रद्धा के साथ देवी की पूजा करता है तो यहां उसे बादलों में देवी की छवि दिखती है।

6. बम्लेश्वरी देवी मंदिर, छत्तीसगढ़ (Bamleshwari devi temple, Dongargarh, Chhattisgarh)
इस जगह का नाम डोंग और गढ़ शब्दों को मिलाकर बना है। डोंग का अर्थ होता है पर्वत और गढ़ का मतलब होता है क्षेत्र।
यह मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के डोंगरगढ़ में 1600 फ़ीट ऊंची पहाड़ी पर है। जहां पहुंचने के लिए लगभग 1100 सीढ़ियां है।

7. सप्तश्रृंगी देवी मंदिर, महाराष्ट्र (Saptashrungi devi temple, Nasik, Maharashtra)
यहां की देवी मूर्ती लगभग 10 फ़ीट ऊंची है। देवी मूर्ति के 18 हाथ है. जिनसे वे अलग-अलग अस्त्र-शस्त्र पकडे हुए है।
यह मंदिर छोटे-बड़े सात पर्वतों से घिरा हुआ है इसलिए यहां की देवी को सप्तश्रृंगी यानी सात पर्वतों की देवी कहा जाता है।

8. तारा तारिणी मंदिर, उड़ीसा (Tara Tarini temple, Odisha)
यह देवी मंदिर अपनेआप में बहुत ख़ास है क्योंकि यह मंदिर दो जुड़वां देवियों तारा और तारिणी को समर्पित है।
यह मंदिर देवी सटी के 4 शक्ति पीठों के मध्य में स्थापित है, यानि इस मंदिर की चारों दिशा में एक एक शक्ति पीठ है।

9. वैष्णो देवी मंदिर, जम्मू-कश्मीर (Vaishno devi temple, Katra, Jammu and Kashmir)
मंदिर के ग्राभ गृह तक जाने के लिए एक प्राचीन गुफा थी, जिसे अब बंद करके दूसरा रास्ता बना दिया गया है।
मान्यता है की माता ने इसी प्राचीन गुफा में भैरव को अपने त्रिशूल से मारा था।

10. शारदा माता मंदिर, मध्यप्रदेश (Maa Sharda devi temple, Maihar, MP)

इसे देवी के 51 शक्ति पीठों में से एक माना जाता है। कहते है की यहां पर देवी सती का हार गिरा था। मैहर वाली माता मंदिर मध्यप्रदेश राज्य की त्रिकुटा पहाड़ी पर बसा है। सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें