Adsense responsive

गुरुवार, 3 मार्च 2016

अनोखा गांव! जहां घरों में नहीं होते दरवाजे

अनोखा गांव! जहां घरों में नहीं होते दरवाजे




आज के जमाने में भला क्या ऎसा कि कोई मकान बनाए और उसमें गेट नहीं लगवाए। लेकिन इस दुनिया में एक ऎसा गांव भी जहां किसी भी घर के दरवाजों पर किंवाड ही नहीं। इतना ही नहीं बल्कि खिड़कियों तक में दरवाजे नहीं लगाते। बिना दरवाजों के घरों वाला यह गांव महाराष्ट्र में है जिसका नाम शनि सिंगनापुर है। यह गांव महाराष्ट्र में ही नहीं बल्कि पूरे देश में अपने अनोखे घरों के लिए जाना जाता है। इस गांव में रहने वाले लोग चाहे किसी भी धर्म के हों, लेकिन सभी के घरों में ऎसा ही माजरा देखने को मिलता है। और तो और यहां के लोगों को अपने सामान की भी चिंता नहीं रहती कि बिना दरवाजे के कोई घर में घुस कर चोरी कर ले। लेकिन यहां कोई चोरी होती ही नहीं।



इस गांव के लोगों द्वारा घरों में दरवाजे नहीं के पीछे कारण यहां विराजमान शनि महाराज का होना है। लोगों का मानना है कि शनि महाराज ही उनके घरों की रक्षा करते हैं। वहीं शनि महाराज के कोप के चलते यहां कोई चोर फटकता तक नहीं। ऎसा यहां पर पिछले 350 सालों से होता आ रहा है।

यहां के निवासियों के मुताबिक आज से करीब 350 साल पहले इस गांव में जबरदस्त बरसात हुई थी जिसमें सभी घरों के दरवाजे बह गए थे। उसी बारिश के दौरान एक 5 फुट से भी बड़ी और 1 फुट चौड़ी काले पत्थर की शिला बहकर आई। यह शिला गांव के किनारे स्थित एक पेड़ के सहारे खड़ी हो गई। इसे गांव के चरवाहों ने देखा और वहां से हटाना चाहा तो इसमें से खून बहने लगा तो वैसे ही छोड़ दिया। इसके बाद शनि महाराज किसी सपने में आए कहा कि किसी भी घर में दरवाजा लगाने की जरूरत नहीं यहां कोई डर नहीं। इसके बाद लोगों ने इसे भगवान शनि की प्रतिमा मानकर पूजना शुरू कर दिया और मंदिर बना दिया। माना जाता है कि यहां शनि महाराज अब तक कई चमत्कार भी दिखा चुके हैं। शनि महाराज का पूरे गांव में पहरा रहता है तथा वो ही इनके घरों की रक्षा करते हैं।












सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें