Adsense responsive

बुधवार, 30 मार्च 2016

इस बार आठ दिन के होंगे चैत्र नवरात्रि

इस बार आठ दिन के होंगे चैत्र नवरात्रि, ये हैं घट स्थापना का मुहूर्त 

चैत्र (वासंतिक) नवरात्र 8 अप्रेल को शुरू होंगे। इस बार नवरात्र में तृतीया तिथि क्षय (कमी) होने से 8 दिन ही देवी की आराधना की जाएगी। ज्योतिष मतानुसार नवरात्रों का घटना शुभ नहीं माना जाता। हालांकि इस बार चैत्र नवरात्र के सात दिन सुयोग रहेंगे। शुक्रवार को कुमार योग व सर्वार्थ सिद्धि योग से नवरात्र की शुरुआत श्रेष्ठ व समृद्धि कारक होगी।
सूर्य-चंद्रमा की गति के कारण नवरात्र इस बार खुशहाली लाएंगे। 15 अप्रेल को रामनवमी का पर्व मनाया जाएगा, इसी दिन नवरात्र उत्थापन भी होंगे। 14 अप्रेल को अष्टमी पर बन रहा गुरु पुष्य योग भी उन्नतिकारक रहेगा। ज्योतिषाचार्य पंडित चंद्रमोहन दाधीच के अनुसार नवरात्र में सात दिन रहने वाले सुयोग में शुभ कार्य का आरम्भ, वाहन व स्वर्णाभूषण की खरीद, प्रॉपर्टी का लेन-देन श्रेष्ठ रहेगा।
आठ को सिंजारा, नौ को गणगौर
9 अप्रेल को द्वितीया तिथि सुबह 9.23 बजे तक ही रहेगी, इसके बाद पूरे दिन तृतीय तिथि ही रहेगी। इसके चलते गणगौर का पर्व 9 को ही मनाया जाएगा। 16 दिन से ईसर व गौरी माता की पूजा कर रही स्त्रियों की अर्चना इसी दिन सम्पन्न होगी। इससे पहले नवरात्र घट स्थापना के दिन सिंजारा मनाया जाएगा।
घट स्थापना मुहूर्त
शास्त्रों के अनुसार चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को घट स्थापना प्रात:काल में ही करना श्रेष्ठ माना गया है। चित्रा नक्षत्र एवं वैधृति योग में घटस्थापना वर्जित बताया गया है। प्रतिपदा को सुबह 10.40 बजे तक वैधृति योग रहेगा। ऐसे में घट स्थापना अभिजित मुहूर्त में दोपहर 12.04 से 12.54 बजे तक करना सर्वश्रेष्ठ रहेगा। वैधृति योग के बाद सुबह 10.40 से 10.55 बजे तक अमृत के चौघडि़ए व दोपहर 12.29 से 2.03 बजे तक शुभ के चौघडि़ए में भी घट स्थापना शुभ रहेगा।
किस दिन कौनसा शुभ संयोग
8 अप्रेल : कुमार योग व सर्वार्थ सिद्धि योग
9 अप्रेल : रवि योग
10 अप्रेल : रवि योग
11 अप्रेल : सर्वार्थ सिद्धि योग, कुमार व रवि योग
12 अप्रेल : रवि योग
14 अप्रेल : सर्वार्थ सिद्धि योग, गुरुपुष्य योग, अमृत सिद्धि योग
15 अप्रेल : रवि योग

सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें