Adsense responsive

बुधवार, 10 फ़रवरी 2016

अजीबोगरीब परम्परा

अजीबोगरीब परम्परा – भूतों का साया और अशुभ ग्रहों का प्रभाव हटाने के नाम पर करवाते हैं बच्चियों कि कुत्तों से शादी


हम 2016 में प्रवेश कर चुके है, शिक्षा और तकनीक के विकास के साथ तेजी से आगे बढ़ रहे  है। दो दिन पहले ही हम स्वदेशी क्रायोजनिक राकेट का सफलतापूर्वक प्रक्षेपण कर विशव के टॉप 6 देशों में शामिल हो चुके है। समाज में बेटों के साथ बेटियां भी हर कदम पर अपनी पहचान बना रही है। समाज की बेटियां ना सिर्फ लड़कों के साथ कदम मिला कर चल रही है, बल्कि उनसे आगे निकल रही है। लेकिन आज भी हमारे समाज में परम्पराओं के नाम पर लड़कियों से सम्बंधित कुछ ऐसी कुरुतियाँ चल रही है जो कि हमारे समाज के विकसित होने पर संदेह पैदा करती है। यह ऐसी कुरीतिया है जिनकी एक सभ्य समाज में कोई गुंजाइश नहीं है। ऐसी ही एक कुरूति है बच्चियों कि कुत्तों से होने वाली शादी। 


हालाकि ये शादी सांकेतिक होती हैं, पर होती हैं असली हिन्दू तरीके और रीती रिवाज़ से। लोगों को शादी में आने का निमंत्रण दिया जाता है। पंडित, हलवाई सब बुक किये जाते है। बाकायदा मंडप तैयार होता है और पुरे मन्त्र विधान से शादी सम्पन कराई जाती है। इस शादी में एक असली शादी जितना ही खर्चा बैठता है और उससे भी बड़ी बात कि समाज एवं रिश्तेदार भी इसमें बढ़ चढ़ के  हिस्सा लेते है। शायद आपको एक बार तो यकीन ही नहीं होगा कि ऐसा भी हो सकता है। लेकिन यह बिलकुल सत्य है। हमारे देश में झारखण्ड राज्य के कई इलाकों में परंपरा के नाम पर ऐसी शादियां सदियों से कराई  जा रही है।  
Ajeeb parmpara - Ek bacchi ki kutte ke saath shaadi
भूतों का साया और अशुभ ग्रहों का प्रभाव हटाने के नाम पर करवाते है शादी 
इन शादियों को करवाने के पीछे जो तर्क दिए जाते है वो भी उतने ही अजीब है। एक कारण तो ये बताया जाता है कि यदि  बच्ची के ऊपरी मसूड़े में पहला दांत आये तो इसका मतलब होता है कि उस बच्ची के ऊपर अशुभ ग्रहों  का प्रभाव है जिसको दूर करने के लिए दूसरा दांत आने से पहले उसकी सांकेतिक शादी कुत्ते से करा दी जाती है।
और दूसरा कारण की अगर किसी बच्ची के जन्म से ही दूध के दांत हैं और वह बचपन से ही बदसूरत है, तो माना जाता है कि उस पर किसी भूत का साया है। उस भूत के साये को उतारने के लिए बच्ची की शादी कुत्ते से करा दी जाती है। माना जाता है कि वो कुत्ता उस लड़की को बुरे साय से बचाए रखेगा और उसे किसी तरह की नजर नहीं लगेगी। 

ऐसी ही एक शादी पिछले दिनो झारखंड के आदित्यापुर के पास सराईकेला नाम के एक गांव में पुष्पा नाम की एक बच्ची की हुई।चुकी ऐसी शादियाँ 10 साल से छोटी बच्चियों की कराई जाती है इसलिए वो कोई विरोध भी नहीं कर पाती है।  किसी भी अन्य शादी की तरह इस शादी के लिए भी सभी पुख्ता इंतेजाम किये गये थे। मेहमानों को बुलाया गया था। खाने-पीने का हर इंतेजाम था पंडित जी को भी बुलाया गया था। और पूरे  रीती रिवाज के साथ शादी सम्पन्न कराई गयी थी। लेकिन दूरदराज के गाँवों में भी बढ़ती मीडिया कि उपस्तिथि के कारण ये शादी चर्चा में आ गयी। इस शादी को ले कर काफी हंगामा भी हुआ और सामजिक कार्यकर्ताओं ने इस कुरूति को प्रतिबंधित करने कि भी मांग करी।

सरकारी नौकरियों के बारे में ताजा जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपरोक्त पोस्ट से सम्बंधित सामान्य ज्ञान की जानकारी देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

उपचार सम्बंधित घरेलु नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें । 

देश दुनिया, समाज, रहन - सहन से सम्बंधित रोचक जानकारियाँ  देखने के लिए यहाँ क्लिक करें । 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें