Adsense responsive

गुरुवार, 10 दिसंबर 2015

पूजा के दौरान ना करें ऐसी गलतियां

पूजा के दौरान ना करें ऐसी गलतियां


पूजा चाहे कोई भी हो, सभी में चावल की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। लेकिन ध्यान रहे कि पूजा में जिन भी चावलों का प्रयोग हो, वह अखंडित हों अर्थात टूटे हुए न हों। चावल चढ़ाने से पहले अगर आप उन्हें हल्दी के घोल से पीला कर लेते हैं तो यह और भी शुभ है। कभी भी धार्मिक कार्य के लिए किसी खंडित वस्तु, जैसे टूटे दीपक आदि का प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए।

पूजा में पान का पत्ता बहुत उपयोगी माना गया है। पान के पत्ते में इलायची, लौंग, गुलकंद आदि भी डालकर पूजा करेंगे तो यह और शुभ होगा।

पूजा के दौरान जलाए गए दीपक का विशेष ध्यान रखना चाहिए। दीपक के बुझने से पूजा का फल नहीं मिल पाता।

पूजा की शुरुआत करने से पहले जिस भी देवी-देवता की पूजा की जानी है उनका आह्वान, ध्यान, आसन, स्नान, पूजा के लिए उपयोगी सामग्री, दीपक जलाना, प्रसाद आदि सभी जरूर होने चाहिए।

हिन्दू धर्म में जहां मूर्ति पूजा को विशेष स्थान दिया गया है वहां ईश्वर के स्वरूप और उसके पूजन का महत्व और भी ज्यादा बढ़ जाता है।

उपरोक्त बातों का ध्यान रखना आवश्यक है लेकिन इन सबके अलावा भी बहुत कुछ महत्वपूर्ण है| आइए जानें

घर के मंदिर में भगवान की मूर्तियों को कुछ इस तरह स्थापित करें कि मूर्तियों का मुख एक दूसरे के सामने ना पड़े।

घर में मंदिर कुछ ऐसे स्थापित किया जाना चाहिए जहां ताजी हवा और सूरज की रोशनी पहुंचती हो। जिन घरों में सूर्य की किरणों का प्रवेश होता है उन घरों में दोष तो वैसे ही समाप्त हो जाते हैं।

घर से किसी भी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा को बाहर करने और घर के भीतर सुख-शांति बरकरार रखने के लिए पानी में नमक डालकर पोंछा अवश्य लगवाएं। विशेषकर जिस स्थान पर आपका मंदिर स्थापित है वहां तो जरूर ऐसा करें।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें