Adsense responsive

रविवार, 29 नवंबर 2015

सचिन तेंडुलकर के बारे में रोचक तथ्य

सचिन तेंडुलकर के बारे में रोचक तथ्य
_
1. एक बार सचिन छत पर खेल रहे थे
तभी ऊपर से एक हैलीकाॅपटर गुजरा
ओर उनकी उंगली कट गई।
2. यह बेहद कम लोग ही जानते हैं कि
सचिन तेंदुलकर अपने पिता रमेश
तेंदुलकर की दूसरी पत्नी के पुत्र है।
रमेश तेंदुलकर की पहली पत्नी से तीन
संताने हुई, अजीत, नितिन और
सविता तीनों सचिन से बड़े है।
3. सचिन के पिता रमेश तेंदुलकर
प्रसिद्ध संगीतकार सचिन Dev
Burman के बहुत बड़े फ़ैन थे. उन्होंने
अपने बेटे का नाम भी उन्हीं के नाम
पर रखा.
4. स्कूल टाइम में सचिन अपने दोस्तों के
साथ वड़ा पाव खाने का
कॉम्पीटीशन रखते थे। विनोद
कांबली को वे कई बार इस रेस में
हरा चुके हैं।
5. स्कूली जीवन में उनके अच्छे दोस्त अतुल
रानाडे ने उनके घुंघराले बालों के
कारण उन्हें लड़की समझ लिया था।
6. बचपन में यदि सचिन नेट्स में पूरा
सत्र बिना आउट हुए खेल लेते, तो उनके
कोच ‘ रमाकांत अचरेकर’ उन्हें एक
सिक्का देते थे. सचिन के पास ऐसे 13
सिक्के हैं.
7. मुंबई के ब्रेबॉर्न स्टेडियम में 1988
में खेले एक दिवसीय अभ्यास मैच में
सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान के लिए
फ़ील्डिंग की थी.
8. जब सचिन महज 14 साल के थे, तब
Sunil Gavaskar ने उन्हें बहुत ही
हल्के पैड तोहफे में दिए थे। अंडर-15
टीम के कैंप के दौरान Indore में वे
पैड चोरी हो गए थे।
9. गेंदबाजों को दिन में तारे दिखाने
वाले सचिन को नींद में चलने की
बीमारी है। एक बार एक इंटरव्यू के
दौरान उन्होंने इस बात का खुलासा
किया था। उनकी इसी आदत के कारण
अकसर उनके घरवाले और टीम के साथी
खिलाड़ी परेशान रहते हैं।
0. सचिन तेंडुलकर Left Hander हैं।
जी हां, यह सच है। वैसे तो सचिन
सीधे हाथ से बल्लेबाजी करते हैं।
बॉलिंग में भी उनका सीधा हाथ काम
करता है, लेकिन Autograph देने के
लिए वे बायें हाथ का इस्तेमाल करते
हैं।
1. Dennis Lillee और सचिन तेंदुलकर
के रिश्ते पर काफ़ी बात हुई है.
M.R.F के फाउंडर लिली ने ही सचिन
को गेंदबाजी छोड़ बल्लेबाजी पर
ध्यान देने की सलाह दी थी. लिली ने
जिन खिलाड़ियों को तेज़ गेंदबाज़
बनने से मना किया उनमें Sourav
Ganguly भी शामिल थे.
2. 1995 में सचिन तेंदुलकर नकली मूंछ-
दाढ़ी और चश्मा लगाकर फ़िल्म
'रोजा' देखने गए थे, लेकिन उनका
चश्मा गिरते ही सिनेमा हॉल में
मौजदू लोगों ने उन्हें पहचान लिया.
3. दिलचस्प तथ्य यह है कि सचिन जब
कभी भी टीम के साथ बस में होते हैं
तो वे हमेशा पहली पंक्ति में बायीं
तरफ की खिड़की वाली सीट पर बैठते
हैं।
4. सचिन तेंदुलकर 14 साल की उम्र में
मुंबई की रणजी टीम में शामिल हुए.
इतनी कम उम्र में मुंबई की Ranji
Team में शामिल होने वाले वे पहले
खिलाड़ी थे.
5. Sachin ने Pakistan के ख़िलाफ़
अपने पहले टेस्ट मैच में सुनील गावस्कर
से उपहार में मिले पैड्स को पहन कर
खेला था.
6. 1996 के विश्वकप में सचिन के बल्ले
पर किसी भी कंपनी का लोगो नहीं
था. विश्वकप के तुरंत बाद टायर
बनने वाली कंपनी MRF ने उनसे
करार कर लिया था.
7. सचिन तेंदुलकर ने रणजी, दलीप और
ईरानी ट्राफ़ी के अपने पहले ही मैचों
में शतक जमाए. ऐसा करने वाले वे
भारत के एकमात्र बल्लेबाज़ हैं. उनका
यह रिकॉर्ड आज तक कोई नहीं तोड़
पाया है.
8. सचिन ने अपने ज्यादातर बड़े स्कोर
गोकुलाष्टमी, होली, रक्षा बंधन और
दीपावली जैसे भारतीय त्योहारों
पर ही बनाए हैं।
9. सचिन ने अपने टेस्ट करियर में कभी
तीसरे क्रम पर बल्लेबाजी नहीं की।
बतौर सेकंड ओपनर वे कुल 1 बार
उतरे।
0. सचिन के नाम एक खास रिकॉर्ड दर्ज
है। वे जिस भी Ranji Match में खेले
हैं, उनकी टीम हर बार विजयी रही
है। एकमात्र रणजी मैच जिसमें सचिन
हारी हुई मुंबई टीम का हिस्सा थे
वह Haryana के खिलाफ था।
1. सचिन जब भी बल्लेबाजी के लिये
उतरे, मैदान पर कदम रखने से पहले वह
सदैव सूर्य देवता को नमन करते।
क्रिकेट के प्रति उनका लगाव एक
घटना से लगाया जा सकता है। वर्ल्ड
कप 1999 के दौरान जब उनके
पिताजी का निधन हुआ तो वह पिता
की अन्त्येष्टि में शामिल हुए और
वापस मैच खेलने लौट गये। अगले मैच में
सचिन ने शतक ठोककर अपने दिवंगत
पिता को श्रद्धांजलि दी।
2. सचिन अपनी Ferrari के इतने
दीवाने हैं कि वे अपनी पत्नी
Anjali को भी इसे चलाने नहीं देते.
3. Third Umpire द्वारा आउट दिए
जाने वाले पहले बल्लेबाज सचिन
तेंदुलकर हैं. 1992 में, डरबन में
दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ़ खेले जा
रहे टेस्ट मैच के दूसरे दिन जोंटी
रोड्स के थ्रो के बाद यह मामला
तीसरे अंपायर को रेफ़र किया गया.
अंपायर कार्ल लाएबनबर्ग ने सचिन
को आउट करार दिया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें