Adsense responsive

सोमवार, 1 जून 2015

मृत सागर क्या है ?


मृत सागर क्या है ?

मृत सागर एक ऐसी खारी झील है जो जॉर्डन और इजरायल के बीच में स्थित है। यह लगभग 80  किलोमीटर लंबी और 5 से 20 किलोमीटर चौड़ी है। समुद्र - तल से ऊँची होने के बजाय यह समुद्र - तल से लगभग 400 मीटर नीची है। कहा जाता है कि  यह लगभग 430 मीटर ऊँची थी। तब इसमें जीव - जंतु रहते थे लेकिन आज इसमें कोई भी नहीं रहता है। इससे कोई नदी निकलने की बजाय इसमें जॉर्डन की नदी - नालें आकर मिलते हैं, और घुलनशील नमक को लाकर इसमें नमक की मात्रा बढाते रहते हैं।
सामान्यतः अन्य समुद्रों में नमक की मात्रा 4  से 5 प्रतिशत पायी जाती है किन मृत सागर के पानी में यह मात्रा सर्वाधिक 25 प्रतिशत के लगभग है। इतना ही नहीं, इसमें पाये जाने वाले साधारण लवणों के अतिरिक्त जहरीले पदार्थ भी पाये जाते हैं। इसका परिणाम यह होता है कि अन्य समुद्रों के पानी को तो चखकर देखा जा सकता है परन्तु इसे तो चखा भी नहीं जा सकता, क्योंकि इसे चखते ही खारेपन के स्वाद के साथ चखने वाला बीमार होने लगता है। अतः इस सागर के पानी में कोई भी जीव जिन्दा नहीं रह सकता। जॉर्डन नदी एवं अन्य नालों के साथ आने वाले जीव तथ अन्य समुद्री जीव इस सागर के पानी में प्रवेश करते ही मर जाते हैं। अतः यह सागर एक तरह से मौत का सागर है, इसलिए इसे मृत सागर भी कहा जाता है। 










कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें