Adsense responsive

बुधवार, 27 मई 2015

क्या अंधे लोग भी सपने देख सकते हैं ?

 
क्या अंधे लोग भी सपने देख सकते हैं ?

जब हम सो रहे होते हैं तो हमारे मस्तिष्क के वह भाग जो कार्य को निभाते हैं, अक्रिय हो जाते हैं। इन्हें विज़ुअल कोर्टेक्स कहते हैं। लेकिन जब हम सपने देखते हैं तो ये भाग अक्रिय होने के बजाय सक्रिय होते हैं, हालांकि उस समय हम सो रहे होते हैं। सामान्यतः सपनों में वही चीजें दिखायी देती हैं, जो हमने देख रखी होती है या जो देखी जा सकती हैं। कोई भी स्वेछा से अनायास हुई क्रिया जब चित्रित होने लगती है तो हम स्वप्न देखते हैं। इसलिए नींद में लगातार स्वप्न दिखाई नहीं देते। स्वप्न हमारी नींद की एक ख़ास अवस्था में ही दिखाई देते हैं। इस समय अगर कोई स्वप्न देख रहे व्यक्ति की आँखें देखें तो वह तेज़ी से हरकत करती हुई दिखाई देती है। ये बातें तो रहीं स्वप्न के बारे में , जिसे आँखों वाले देखते हैं। लेकिन नेत्रहीन भी स्वप्न देखते हैं या नहीं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि उसकी अंधता की क्या स्थिति है ? आँख का कौनसा भाग खराब है। आँखों के खराब होने के एक से अधिक कारण हो सकते हैं ; जैसे रेटिना के ख़राब होने से, दृश्य तंत्रिकाओं के अक्रिय होने से तथा विज़ुअल या दृश्य कोर्टेक्स के ख़राब होने से, जो लोग अंधे हुए हैं, उन्हें दिखाई तो नहीं देता ; लेकिन उनकी विज़ुअल कोर्टेक्स सक्रिय होती है। ऐसे अंधे लोगों को सपने दिखाई दे सकते हैं, लेकिन इनको दिखाई देने वाले सपने विभिन्न आकृतियों की सरल झपकियों जैसे होते हैं। जिनके विज़ुअल कोर्टेक्स भी खराब होता हैं, उन्हें सपने दिखाई नहीं दे सकते।


घरेलु उपचार सम्बंधित देशी नुस्खे जानने के लिए यहाँ क्लिक करें 






कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें