Adsense responsive

सोमवार, 20 अप्रैल 2015

हाथियों के बारे में कुछ अनसुने तथ्य

हाथियों के बारे में कुछ अनसुने तथ्य 


अगर आपका सामना कभी जंगल में हाथी से हो जाए और बचाव की कोई उम्मीद न रहें तो आपको हाथी से बचने के लिए पेड़ पर नही चढ़ना चाहिए और ना ही किसी चीज के पीछे छिपना चाहिए क्यूंकी हाथी के सूंड मे इतनी ताकत होती है कि वह एक झटके में पेड़ को उखाड़कर फेंक सकता है। सबसे आसान तरीका है कि आपको ज्यादा से ज्यादा शोर करना चाहिए. और जोर-जोर से चिल्लाना चाहिए इससे आपके बचने की उम्मीद कहीं ज्यादा है।





आज हम आपको हाथियों के बारे में ऐसे रोचक तथ्य बताएँगे जिन्हें पढ़कर आप पक्के चौंक जाएंगे  :

  1. आपने हमेशा देखा होगा कि हाथी दिन भर अपने कान हिलाता रहता है, क्‍या आपने कभी सोचा कि ऐसा क्‍यों? असल में हाथी अपने विशालकाय शरीर की गर्मी को कानों के जरिये बाहर छोड़ता है। यह काम हाथी के कानों की कोशिकाएं करती हैं। यही कारण है कि अफ्रीका के हाथियों के कान बहुत बड़े होते हैं, क्‍योंकि वहां गर्मी ज्‍यादा पड़ती है।
  2. रेलवे की शुरुआत में ट्रेन के डिब्बे को धकेलने, उठाने व माल ढ़ोने के लिए क्रेन की जगह हाथी का इस्तेमाल किया जाता था। ये बात 1963 की है, जब बड़ौदा में ट्रेन को खींचने से लेकर माल ढ़ोने तक हाथियों का इस्तेमाल किया गया था।
  3. हाथियों में यौवन अवस्था आमतौर पर 13 या 14 साल की आयु में आ जाती है. हाथी एक मात्र ऐसा जानवर है, जिसको यौन क्रिया के लिये उत्‍तेजित करने के लिये प्रकृति ने अलग से ग्‍लैंड दिया है, जिसे टेंपोरल ग्‍लैंड कहते हैं, जो कान और आंख के बीच में शरीर के अंदर होता है। वहीं से हाथी अपनी यौन इच्‍छाओं को नियंत्रित एवं प्रदर्शित करता है। उत्‍तेजित अवस्‍था में हाथी के कान और कान के बीच एक छिद्र में से तरल पदार्थ रिसने लगता है। उत्‍तेजित अवस्‍था में हाथी का लिंग करीब 1 मीटर लंबा होता है और अंग्रेजी के अक्षर एस के आकार का हो जाता है।
  4. एक हाथी पानी की गंध को 4.5 किलोमीटर की दुरी से सूंघ सकता है. लेकिन आपको बता दे कि हाथी हर मिनट में केवल 2 से 3 बार सांस लेते व छोड़ते हैं। 
  5. हाथी एक एकलौता जानवर है जो कि कूद नही सकता और जिसके चार घुटने होते है.
  6. शेर को भले ही जंगल का राजा कहा जाता है, लेकिन वह गेंडे और हाथी से कभी भी लड़ना नहीं चाहता।
  7. हर हाथी की गरज़ भी हम मनुष्यों की आवाज की तरह भिन्न होती है. हाल के अध्ययनों से पता चला है कि हाथी जिस आवाज को सुनते हैं, उसकी नक़ल कर सकते हैं।
  8. हाथी कभी भी आपस में नही लड़ते. अगर किसी झुंड का एक हाथी मर जाए तो सारा झुंड अजीब-अजीब तरह से गरज़ कर शौक मनाता है.
  9. हाथी साफ सुथरा रहना पसंद करते हैं और हर रोज नहाते हैं.
  10. हाथी अपनी सूँड से एक फर्स पर गिरा छोटा सा सिक्का भी उठा सकते हैं. कई अन्य प्रजातियों की तरह, हाथी अपनी सूंड से ब्रश को पकड़ कर कलाकारी भी करते हैं। 
  11. हाथी की आंखों की रौशनी कम होती है, लिहाजा वो अपनी सूँड का इस्‍तेमाल उसी प्रकार करता है, जिस तरह एक नेत्रहीन व्यक्ति लकड़ी का। हाथी चलते वक्‍त सूँड से नीचे की ओर फूंकता है, और हवा जमीन से टकरा कर वापस आती है, उससे उसे आगे की राह का अंदाजा हो जाता है। हाथी एक बार में अपनी सूँड में करीब 8 से 9 लीटर तक पानी भर सकता है। वो सूँड से 350 किलोग्राम तक वजन उठा सकता है।
  12. मादा हाथी हर 4 साल में एक बच्चे को जरूर जन्म देती है. इसका गर्भकाल औसतन 22 महीने तक का होता है. 1 प्रतिशत मामलों में जुडवाँ बच्चे जन्म लेते हैं. नव जन्में हाथी की लंम्बाई लगभग 83 सेंटीमीटर और वजन 112 किलो तक का होता है.
  13. हाथी के शरीर का सबसे मुलायम हिस्सा उनके कान के पीछे होता है जिन्हें knule कहते हैं. हाथियों को संभालने वाले महंत अपने पैरों का उपयोग करके knule के जरिए हाथियों को निर्देश देते हैं.
  14. हाथी की आंखों की रौशनी बहुत कम होती है। खास बात यह है कि तेज़ रौशनी में उन्‍हें कम दिखाई देता है और कम रौशनी में ज्‍यादा। हाथी की आंख की पुतलियां बहुत जल्‍दी सूख जाती हैं, जिस वजह से वो अपनी आंख की पुतलियां हिला नहीं पाता है। पुतलियां आसानी से हिल सकें, इसके लिये उन्‍हें नम रखना जरूरी होता है, यही कारण है कि हाथी की आंख में एक तरल पदार्थ की सप्‍लाई होती रहती है, जो ज्‍यादा होने पर आंख से बाहर निकल आता है, जिसे हम आंसू समझ बैठते हैं।
  15. जवान अफ्रीकन हाथी की लंम्बाई 13 फीट तक बढ़ जाती है और भारतीय हाथियों की 10 फीट.
  16. जवान अफ्रीकन हाथी का वजन लगभग 6,160 किलोग्राम तक होता है और भारतीय हाथियों का 5000 किलोग्राम तक.
  17. हाथियों का जीवन काल औसतन हम मनुष्यों की तरह 70 साल तक का ही होता है.
  18. हाथी आमतौर पर 6 किलोमीटर प्रति घंटा की रफतार से चलते हैं. इतना विशाल शरीर होने के बावजूद हाथी दिन भर में करीब 10 से 20 किलोमीटर चलते हैं और सोते सिर्फ 3 से 4 घंटे। खास बात यह है कि हाथी लेट कर नही ब्लकि खड़े होकर ही सोते हैं
  19. जानवरों में हाथियों का दिमाग सबसे बड़ा होता है और हाथी लंम्बे समय तक पानी में तैर सकते हैं.
  20. हाथी दिन के 16 घंटे सिर्फ खाने में ही बिता देते हैं. ये लगभग एक दिन में 120 किलो तक भोजन खा जाते हैं. खास बात यह है कि वो उसका सिर्फ 35 फीसदी ही पचा पाता है, बाकी मलद्वार से बाहर निकल जाता है।
  21. नर हाथी 12 से 15 साल की आयु के बीच झुंड़ छोड़ देते हैं.
  22. एक हाथी का बच्चा अक्सर आराम के लिए अपनी सूँड चुसता है.
  23. हाथी भी मनुष्यों की तरह Right या left handed होते हैं.
  24. हाथी के दाँत उसके जीवन काल के दौरान बढ़ते रहते हैं. अफ्रिकी हाथी के 4 दाँत होते है।
  25. हाथी अपने पैरों का उपयोग सुनने के लिए भी करते हैं. जब हाथी चलते हैं तो जमीन में एक विशेष प्रकार का कंपन पैदा होता है. इस कंपन से हाथी दुसरे हाथियों के बारे में जान लेते हैं.
  26. हमें बचपन से बताया जाता है कि अगर एक चींटी हाथी की सूँड में घुस जाये, तो वो मरने की कगार तक पहुंच सकता है, इसीलिये हाथी फूंक-फूंक कर कदम बढ़ाता है। यह बात सही है, लेकिन इसके आगे भी एक महत्‍वपूर्ण तथ्‍य यह भी है कि अगर हाथी को चींटी, मच्‍छर या मक्‍खी काट भर ले, तो उसे घाव हो सकता है, वैसे तो एक हाथी की चमड़ी लगभग एक इंच तक मोटी होती हैं. लेकिन इसकी त्‍वचा बहुत संवेदनशील होती है। यही कारण है कि हाथी अपनी त्‍वचा को सूर्य से निकलने वाली अल्‍ट्रा वॉयलेट किरणों से बचाने के लिये मिट्टी में लोटता है।

101 रोचक तथ्य

101 रोचक तथ्य 

1. फिलिपिन्स में पाया जाने वाला बोया पक्षी प्रकाश में रहने का इतना शौकीन होता है कि अपने घोंसले के चारो और जुगनु भरकर लटका देता है। 
2. वेटिकनसिटी दुनिया का सबसे छोटा देश है इसका क्षेत्रफल 0.2 वर्ग मील है और इसकी आबादी लगभग 770 है. इनमें से कोई भी इसका परमानेंट नागरिक नही है। 
3. नील आर्मस्ट्राँग ने सबसे पहले अपना बाँया पैर चँद्रमा पर रखा था और उस समय उनके दिल की धड़कन 156 बार प्रति मिनट थी। 
4. धरती के गुरूत्वाकर्षण के कारण पर्वतों का 15,000 मीटर से ऊँचा होना संभव नही है। 
5. रोम दुनिया का वो शहर है जिसकी आबादी ने सबसे पहले 10 लाख का आकड़ा पार किया था। 
6.1992 के क्रिकेट विश्वकप में इंग्लैंड को हराते हुए जिम्बाब्वे ने बड़ा उलटफेर कर दिया था। पहले बल्लेबाजी करते हुए जिम्बाब्वे ने सिर्फ 134 रन बनाए और इंग्लैंड का काम आसान कर दिया लेकिन हुआ ऐसा नही, इंग्लैंड की टीम 125 रन पर ही ढेर हो गई। 
7. 269 मीटर की ऊँचाई वाले टाइटैनिक को अगर सीधा खड़ा कर दिया जाए तो यह अपने समय की हर इमारत से ऊँचा होता।
8. टाइटैनिक की चिमनिया इतनी बड़ी थी कि इनमें से दो ट्रेने गुजर सकती थी। 
9. सिगरेट लाइटर की खोज माचिस से पहले हुई थी। 
10. हमारी अंगुलियों के निशानों की तरह हमारी जुबान के भी निशान भिन्न होते है। 
11. विश्व में अभी भी 30 प्रतीशत लोग ऐसे है जिन्होंने कभी मोबाइल का प्रयोग नही किया। 
12. औसतन हर दिन 12 नव-जन्में बच्चे किसी और मां-बाप को दे दिए जाते हैं। 
13. आईसलैंड में पालतू कुत्ता रखना क़ानून के विरूद्ध है। 
14. Righted-handed लोग औसतन left-handed लोगों से 9 साल ज्यादा जीते हैं। 
15. शहद एकलौता ऐसा खाद्य पदार्थ है जो कि हजारों सालों तक खराब नही होता. Egypt के पिरामिडों में फैरो बादशाह की क्रब में पाया गया शहद जब खोजी वैज्ञानिकों द्वारा चखा गया तब भी वह उतना ही स्वादिष्ट था। बस उसे थोडा गरम करने की जरूरत थी।
16. एक औसतन लैड की पेंसिल से अगर एक लाइन खींची जाए तो वह 35 किलोमीटर लम्बी होगी जिससे 50,000 अंग्रेजी शब्द लिखे जा सकते हैं। 
17. एक समुद्री केकडे का दिल उसके सिर में होता है। 
18. गोरिल्ला एक दिन मे ज्यादा से ज्यादा 14 घंटे सोते है। 
19. हर साल लोग साँपों से ज्यादा मधुमक्खियों द्वारा काटे जाने से मारे जाते हैं। 
20. कुछ कीड़े भोजन ना मिलने पर खुद को ही खा जाते हैं। 
21. कुछ शेर दिन में 50 बार सहवास करते हैं। 
22. तितलियाँ किसी वस्तु का स्वाद अपने पैरों से चखती है। 
23.1386 ईसवी में फ्रांस में लोगो द्वारा एक सुअर को एक बच्चे के क़त्ल के दोष में फाँसी पर लटका दिया गया था।
24. मानव गर्भनिरोधक गोलियां गोरिल्ला पर भी काम करती है। 
25. एक गिलहरी की उम्र 9 साल तक होती है। 
26. क्या आप जानते है छिपकली का दिल 1 मिनट में 1000 बार धड़कता है। 
27. अगर एक बिच्छू पर थोड़ी सी मात्रा में भी शराब या रस डाल दिया जाए तो यह पागल हो जाएगा और खुद को डंक मार लेगा.
28. एक औसत मनुष्य के लिए अपनी ही कुहनी चाट पाना असंभव है। 
29. जो लोग इस को पढ़ रहे है उन में से 75 % से ज्यादा लोग अपनी कुहनी चाटने की कोशिश करेंगे। 
30. अगर आप जोर से छीके तो आप अपनी पसली तुडवा सकते हैं। 
31. अगर आप छीकते वक्त अपनी आँखे जोर से खुली रखने की कोशिश करे तो आप की eyeball (डेला) तिडक सकता है। 
32. सिर्फ एक घंटा हेडफोन लगाने से हमारे कानो में जीवाणुयों की तादाद 700 गुना बढ़ जाती है। 
33. पूरे जीवन काल के दौरान नींद में आप भिन्न-भिन्न तरह के 70 कीट और 10 मकडीयाँ खा जाते है। 
34. आपका दिल एक दिन में लगभग 100,000 बार धडकता है। 
35. आप के शरीर की लगभग 25 फीसदी हड़डियाँ आप के पैरों में होती हैं। 
36. अंगुलियों के नाखुन पैरों के नाखुनों से 4 गुना ज्यादा जल्दी बढ़ते हैं। 
37. आप 300 हड़डियों के साथ जन्म लेते हैं, पर 18 साल तक होते-होते आप की हड़डियाँ जुड़ कर 206 रह जाती हैं। 
38. एक औसतन इंसान दिन में 10 बार हँसता है। 
39. छींकते समय आँखे खुली रख पाना नामुनकिन है और छींकते समय दिल की गती एक मिली सेंकेड के लिए रुक जाती है। 
40. ”Rhythm”(लय) vowel के बिना इंग्लिश का सबसे बड़ा शब्द है। 
41. ’TYPEWRITER’ सबसे लम्बा शब्द है जो कि keyboard पर एक ही लाइन पर टाइप होता है। 
42. ’Uncopyrightable’ एकलौता 15 अक्षरों वाला शब्द है जिसमे कोई भी अक्षर दुबारा नही आता। 
43. ’Forty’ एकलौती संख्या है जिसके अक्षर alphabetical order के अनुसार जबकि ‘one” के alphabetical order से उलट हैं। 
44. इंग्लिश के शब्द ‘therein’ से सात सार्थक शब्द निकाले जा सकते हैं -the, there, he, in, rein (लगाम), her, here, ere (शीघ्र), therein, और herein (इसमे)। 
45. Albert Einstein के अनुसार हम रात को आकाश में लाखों तारे देखते हैं जो उस जगह नही होते बल्कि कहीं और होते हैं। हमें तों उनके द्वारा छोडा गया कई लाख प्रकाश साल पहले का प्रकाश होता है। 
46. ज्यादातर विज्ञापनो में घड़ी पर 10 बज कर 10 मिनट का समय दिखाया जाया जाता है। 
47. पुरूषों की shirts के बटन Right side पर जबकि औरतो left side के पर होते हैं.
48. चमगादड गुफा से निकलते समय हमेशा बाएँ हाथ मुडते है। 
49. लगभग 100 चमगादड़ मिल के एक साल में 25 गाय का खून पी जाते हैं। 
50. अगर एक आदमी सात दिनो के लिए कही बाहर जाता है तो वह पाँच दिन के कपड़े पैक करता है। मगर जब एक औरत सात दिन के टूर पर जाती है तो वह लगभग 21 सूट पैक करती है क्योकि वह यह नही जानती कि हर दिन उसे क्या पहनने को दिल करेगा। 
51.100 की उम्र के पार पहुँचने वालो में से 5 में से 4 औरते होती हैं। 
52. जिन लोगो कि शरीर पर तिलों की संख्या ज्यादा होती है वह औसतन कम तिल वाले लोगो से ज्यादा जीते हैं। 
53. कुत्ते और  बिल्लियाँ भी मनुष्य की तरह left या right-handed होते हैं। 
54. इतिहास में सबसे छोटा युद्ध 1896 में England और Zanzibar के बीच हुआ, जिसमें Zanzibar ने 38 मिनट  बाद ही सरेंडर कर दिया था। 
55. फेसबुक पर 10 या उससे अधिक likes वाले 4 करोड़ 20 लाख पेज हैं। 
56. फेसबुक के 43 प्रतिशत users पुरुष है वहीं 57 फीसदी महिलाएं।
57. यदि कोई व्यक्ति हर वेबसाइट को मात्र एक मिनट तक ब्राउज़ करे तो उसे सारी वेबसाइटें खंगालने में 31000 वर्ष लगेंगे। यदि कोई व्यक्ति सारे वेब पेज पढना चाहे तो उसे ऐसा करने में करीब 6,00,00,000 दशक लगेंगे। 
58. दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट का मैदान हिमाचल प्रदेश के चायल नामक स्‍थान पर है। इसे समुद्री सतह से 2444 मीटर की ऊंचाई पर भूमि को समतल बना कर 1893 में तैयार किया गया था।
59. व्यक्ति खाना खाए बिना कई हफ्ते गुजार सकता है, लेकिन सोए बिना केवल 11 दिन रह सकता है।
60. जिस हाथ से आप लिखते हैं, उसकी अंगुलियों के नाखून ज्यादा तेजी से बढ़ते हैं।
61. हमारे शरीर में लोहा भी होता है इतना कि एक शरीर से प्राप्त लोहे से एक इंच की कील भी तैयार की जा सकती है |
62. एक सामान्य मनुष्य अपने पूरे जीवनकाल में भूमध्य रेखा के पाँच बार चक्करलगाने जितना चलता है। यह लगभग 2 लाख किलोमीटर बनता है। 
63. भास्‍कराचार्य ने खगोल शास्‍त्र के कई सौ साल पहले पृथ्‍वी द्वारा सूर्य के चारों ओर चक्‍कर लगाने में लगने वाले सही समय की गणना की थी। उनकी गणना के अनुसार सूर्य की परिक्रमा में पृथ्‍वी को 365258756484 दिन का समय लगता है।
64. वाराणसी, जिसे बनारस के नाम से भी जाना जाता है, एक प्राचीन शहर है जब भगवान बुद्ध ने 500 ई. पू. यहां आगमन किया और यह आज विश्‍व का सबसे पुराना और निरंतर आगे बढ़ने वाला शहर है।
65. भारत 17वीं शताब्‍दी के आरंभ तक ब्रिटिश राज्‍य आने से पहले सबसे सम्‍पन्‍न देश था। क्रिस्‍टोफर कोलम्‍बस भारत की सम्‍पन्‍नता से आकर्षित होकर भारत आने का समुद्री मार्ग खोजने चला और उसने गलती से अमेरिका को खोज लिया।
66. संस्कृत को सभी उच्च भाषाओं की जननी माना जाता है. क्योंकि यह कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के लिए सबसे सटीक है, और इसलिए उपयुक्त भाषा है। 
67. 70 फीसदी लीवर, 80 फीसदी आंत और एक किडनी बगैर भी इंसान जिंदा रह सकता है।
68. कुर्सी पर बैठ कर अपने दाएं पैर से गोला बनाइये और साथ ही अपने दाएं हाथ से हवा में 6 लिखिए , आपके पैरों की दिशा बदल जाएगी। 
69. मुंबई के ब्रेबॅार्न स्टेडियम में 1988 में खेल One day अभ्यास मैच में सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान के लिए फील्डिंग की थी। 
70. गूगल से 10 अरब से अधिक पेज जुडे हुए हैं जो हर 19 महीने में दुगने हो जाते हैं। 
71. Internet में 80% ट्रेफिक सर्च इंजनो की वजह से आता है। 
72हम शाम के मुकाबले सुबह लगभग 1 cm लम्बे होते हैं। 
73. सपनो में हम सिर्फ वही चीजें देख सकते हैं जो हम पहले से देख चुके हैं। 
74. अफजल खान की एक बीवी ने उसे शिवाजी की शरण में जाने को कहा तो अफजल खान इतना भड़क गया कि उसने अपनी पूरी 63 बीवियों को मार कर एक कुएं में फेंक दिया। 
75. गरम पानी ठन्डे पानी से पहले बर्फ में बदल जाता है। 
76.अगर पृथ्वी को सेब के आकार का बना दें तो पृथ्वी के ऊपर वायुमंडल केवल उसके छिलके के बराबर है। 
77. टाइटैनिक जहाज को बनाने को लिए उस समय 35 करोड़ 70 लाख रूपये लगे थे जब कि टाइटैनिक फिल्म बनाने के लिए 1000 करोड़ के लगभग लागत आई। 
78. बिल गेट्स हर सेकेण्ड में करीब 12,000  रुपये कमाते हैं यानि एक दिन में करीब 102 करोड़ रूपये। 
79. राष्ट्रपति जार्ज बुश ने एक बार जपानी प्रधानमंन्त्री की कुर्सी पर उल्टी कर दी थी। 
80. चीन में एक 17 साल के लड़के ने i pad 2 और i phone के लिए अपनी kidney बेच दी थी। 
81. धरती पे जितना भार सारी चीटीयों का है उतना ही सारे मनुष्यो का है। 
82. Octopus के तीन दिल होते हैं। 
83. सिर्फ मादा मच्छर ही आपका ख़ून चूसती हैं। नर मच्छर सिर्फ आवाजे करते हैं। 
84. ब्लू व्हेल एक साँस में 2000 गुबारो जितनी हवा खिचती है और बाहर निकालती है। 
85. मछलियों की याद्दाश्त सिर्फ कुछ सेकेंड की होती है। 
86.पैराशूट की खोज हवाई जहाज से एक सदी पहले हुई थी। 
87. कंगारु उल्टा नही चल सकते। 
88. चीन में आप किसी व्यकित को 100 रूपया प्रति घंटा अपनी जगह लाइन में लगने के लिए कह सकते हैं। 
89. Facebook उपयोग करने वाली सबसे बुजुर्ग मनुष्य 105 साल की एक महिला है जिसका नाम Lillion Lowe है। 
90. ग्रीक और बुलगारिया में एक युद्ध सिर्फ इसलिए लड़ा गया था क्योंकि एक कुत्ता उनका border पार कर गया था। 
91.1894 में जो सबसे पहला कैमरा बना था उससे आपको अपनी फोटो खीचने के लिए उसके सामने 8 घंटे तक बैठना पड़ेगा। 
92. आप को कभी भी यह याद नही रहेगा कि आपका सपना कहाँ से शुरू हुआ था। 
93. Keyboard पर टॅायलेट सीट से 60 गुना ज्यादा germs होते हैं। 
94. हर साल 4 लोग अपनी पैंट बदलते समय अपनी जान गंवा देते हैं। 
95. फेसबुक संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने यूनिवर्सिटी में पढाई के दौरान Facemash नाम से वेबसाईट बनाई थी बाद में इसी का नाम Facebook कर दिया गया। 
96. Abraham Lincoln जब Depression (अवसाद) से गुजर रहे थे तो वह चाकू-छूरों से दूर रहते थे, उन्हें डर था कि वह खुद को मार न लें। 
97. लोग सबसे ज्यादा तेज फैसले तब लेते हैं जब वह वीडियो गेम खेल रहे होते हैं। 
98. हर साल दो मिनट ऐसे होते है जिनमे 61 सैकेंड होते हैं। 
99. आम तौर पे classes में पढ़ाया जाता है कि प्रकाश की गति 3 लाख किलोमीटर/सैकेंड होती है पर असल में यह गति 2,99,792 होती है। 
100.हर सैकेंड 100 बार आसमानी बिजली धरती पर गिरती है। 
101. Kiss करने से ज्यादा हाथ मिलाते समय germs एक दुसरे को ट्रान्सफर होते हैं। 

शनिवार, 18 अप्रैल 2015

मिट्टी की वस्तुएं पकने पर लाल रंग की क्यों हो जाती हैं?

मिट्टी की वस्तुएं पकने पर लाल रंग की क्यों हो जाती हैं?

                 मिट्टी के बर्तनों या ईंटो को पकाने पर उनके रंग का लाल हो जाना इस बात पर निर्भर करता है की मिट्टी में कौन - कौन से पदार्थ मिले हुए हैं। सामान्यतः मिट्टी में अन्य पदार्थों के साथ - साथ लोहे के यौगिक भी मिले होते हैं। इसलिए मिट्टी के बने बर्तनों अथवा ईंटों को जब आग में पकाया जाता है तो लोहे के यौगिक लौह ऑक्साइड में बदल जाते हैं। लौह ऑक्साइड का रंग हल्का भूरा - सा होता है। जब यह सिलिका के साथ मिट्टी में मिले अन्य यौगिकों के साथ क्रिया करता है तो बर्तन या ईंटे लाल रंग की हो जाती हैं।






धुएं से आंसू क्यों आ जाते हैं?

धुएं से आंसू क्यों आ जाते हैं?

               आँखें हमारे शरीर का बहुत ही नाजुक अंग हैं। किसी भी अप्रिय पदार्थ के संपर्क में आने पर यह उसको निकाल बाहर फेंकने हेतु तरल पदार्थ, जिसे आंसू कहते हैं, बहाना प्रारम्भ कर देती हैं। धुआं ऐसा पदार्थ है जिसके संपर्क में आने पर आँखों की रक्तवाहिनियां फैल जाती हैं। रक्तवाहिनियों के फैलने से ही हमारी आँखें लाल हो जाती हैं और दुखने लगती हैं। इसके साथ ही आँखों में जलन भी होने लगती है जिसके कारण आँखों से आंसू आने लगते हैं। इसीलिए धुएं से आँखों में आंसू आ जाते हैं।













गुरुवार, 16 अप्रैल 2015

शंख को कान पर रखने से उसमें गूँज क्यों सुनाई देती है ?

शंख को कान पर रखने से उसमें गूँज क्यों सुनाई देती है ?

               शंख की बनावट कुछ इस तरह की होती है कि उसमें चक्करदार खोखलापन  होता है। अतः शंख के आसपास की हवा और आवाजें उसके खुले भाग में एकत्र हो जाती हैं और कान की और इंगित होने लगती हैं। इस तरह के शंख के आकार - प्रकार के कारण ध्वनि - विज्ञान का गूंजतंत्र पनप जाता है। अतः शंख को कान पर रखने से उसमें गूँज की आवाज सुनाई देती है।






रात की रानी के फूल रात में ही क्यों खिलते हैं ?



REET 2017-18 25,000 TEACHER VACANCY FOR THIRD TEACHER IN RAJASTHAN



रात की रानी के फूल रात में ही क्यों खिलते हैं ? 

               जैसे कुछ जीव रात में ही सक्रिय होते हैं , वैसे ही कुछ पौधे भी। ऐसे ही पौधों में है  रात की रानी , हनी सकल और नाइटशेड। क्या आप जानते हैं कि रात की रानी जैसे पौधों में फूल रात को क्यों खिलते है? जिन पौधों के फूल रात को खिलते है , उनमे  मोहक सुगंध होती  है। इस सुगंध के कारण पतंगे जैसे रात में क्रियाशील होने वाले जीव इनकी और आकर्षित होते है। जब ये कीड़े फूल पर बैठते हैं तो परागकण इनके पंखो से चिपक जाते है,फिर इन कीड़ो से ये परागकण दूसरे फूल तक पहुँच जाते है। अतः हम कह सकते है कि रात की रानी के फूल रात में उन कीड़ो को आकृषित करने के लिए ही खिलते है ,जो पराग - सेव न की क्रिया में सहायक होते है। वैसे रात्रि में अक्सर वे ही फूल खिलते  है , जो दिन में सूर्य की गर्मी और प्रकाश को सहन नही कर सकते। रात्रि में खिलने  वाले फूलो के विषय में एक तथ्य यह भी है कि इन फूलो का रंग बहुत चमकीला नही होता , क्योकि यह रंग रात्रि के अंधेरे में दिखाई नही देता रात्रि में खिलने वाले अधिकतर फूलो का रंग सफ़ेद होता है , क्योकि सफ़ेद रंग अँधेरे में भी स्पष्ट दिखाई देता है और कीड़ो को आकृषित करने में सहायक होता है।


















मंगलवार, 14 अप्रैल 2015

आसमान नीला क्यों दिखाई देता है ?

हमें आसमान नीला क्यों दिखाई देता है ?

               सूरज से आने वाला प्रकाश जब धरती के वायुमंडल में आता है तो यह हवा में तैर रहे धुल के कणों तथा  अणुओं से टकराता है। इस टकराहट से यह प्रकाश अनेक दिशाओं में चारों तरफ बिखर जाता है सूरज के प्रकाश में प्रकाश की तरंगें विविध लम्बाई की  होती हैं। इनमें से प्रत्येक का रंग अलग होता है। तरंग दैर्घ्य या लम्बाई से ही रंग विशेष के बिखरने की मात्रा निर्धारित होती है। प्रकाश के रंगों में से नीला और नीलालोहित रंग सबसे अधिक बिखरता है.
               इसलिए नीले प्रकाश का धरती की ओर अधिक विचलन होने लगता है और इसी नीले प्रकाश के कारण हमें आसमान नीला दिखाई देता है।















पके हुए केले फ्रिज में ख़राब क्यों हो जाते हैं ?

पके हुए केले फ्रिज में ख़राब क्यों हो जाते हैं ?

               केला अधिकतर गरम प्रदेशों का फल है , इसलिए यह उपोष्ण जलवायु में ठीक रहता है। यह कम तापमान को सहन नहीं कर पाता है। केले पर अधिक ठंडक या बर्फ आदि का बुरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए जब हम पके हुए केलों को फ्रिज में रखते हैं तो उन पर ऑक्सीडेज नामक एंजाइम क्रिया करने लगते हैं जो उन्हें काले रंग के साथ लिपलिपा - सा बना देते हैं परिणामस्वरुप फ्रिज में पके केले जल्दी ख़राब हो जाते हैं , इसलिए फ्रिज में पके केले नहीं रखने चाहिए। हाँ , यदि आप रखना ही चाहते हैं , तो अपने फ्रिज में कच्चे केले रख सकते हैं , लेकिन एक बात का ध्यान रखें कि जैसे ही कच्चे केले पकने लगें , उन्हें वहां से निकाल लेना चाहिए , अन्यथा वे खराब होने लगेंगे। अतः फ्रिज में पके केले अधिक ठंडक और ऑक्सीडेज एंजाइम की क्रिया के कारण खराब हो जाते हैं।























# गेंद हवा में कैसे घूमती है ?

क्रिकेट की गेंद जमीन को छुए बिना हवा में कैसे घूमती है ?

                क्रिकेट की गेंद जब हवा में जा रही होती है तो वह घूमती भी रहती है। जब गेंद घूमती है, तो वह अपने आसपास की हवा को भी घुमाती है। अब वहाँ घूमती हवा विकेट के ऊपर बह रही हवा के संपर्क में आती है। यदि घूमती गेंद और बहती हवा की दिशा एक ही होती है, तो हवा की कुल रफ़्तार गेंद की तरफ बढ़ जाती है। इससे दबाव में कमी आ जाती है। इसके विपरीत दिशा में घूमती गेंद , जहाँ घूमती हवा की दिशा बहती हवा के विपरीत होती है , वहां हवा की कुल रफ़्तार घट जाती है। इससे दबाव में वृद्धि होती है। गेंद के विपरीत दिशाओं में यह असंतुलित दबाव , (जब गेंद हवा में होती है,) उसे एक तरफ धकेलता है। इसलिए गेंद फेंकने वाले गेंद लो इच्छित दिशा में घूमने के लिए बह रही हवा की दिशा की सहायता लेते हैं। इस तरह क्रिकेट की गेंद जमीन को छुए बिना हवा में घूमती रहती है।
















शुक्रवार, 10 अप्रैल 2015

# नदी के बीच में पानी का बहाव अधिक क्यों होता है ?

किनारों की अपेक्षा नदी के बीच में पानी का बहाव अधिक क्यों होता है ?

              पानी ऊंचाई से नीचाई की ओर बहना प्रारम्भ कर देता है और अवरोध आने पर रुकने लगता है। वैसे भी पानी एक तरह से लसीला द्रव है। इस तरह के द्रवों का बहाव विशेष प्रकार का होता है। ऐसे द्रव यदि किसी पाइप में बह रहे हैं तो उन्हें पानी के अणुओं की परतों की चट्टे के रूप में बहता माना जा सकता है। जब पानी नदी में बहता है तो नदी के किनारों पर घर्षण अवरोध के कारण किनारे के संपर्क में आनेवाली पानी की परतें लगभग गतिशून्य - सी हो जाती हैं। लेकिन नदी के बीच में बहने वाले पानी पर इसका असर बेमालूम - सा पड़ता है, अतः नदी के किनारों पर बहने वाले पानी की अपेक्षा नदी के बीच में बहने वाले पानी का बहाव अधिक होता है।
























# बेलनाकार तने

अधिकतम वृक्षों के तने बेलनाकार क्यों होते हैं ? 

            यह सच्च है कि  अधिकतर वृक्षों का तना बेलनाकार होता है; लेकिन सभी वृक्ष बेलनाकार नहीं होते। घांस जैसे पौधों का तना  तिकोना होता है तो तुलसी एवं अन्य पौधों का तना चौकोर होता है। हम जानते हैं कि पौधे बहुत छोटी - छोटी कोशिकाओं के बने होते हैं।  कोशिकाएं अापस में सर्पिल कुंडलीदार या गोलाकार आकार मे जुडी होती हैं। पौधों की आकृति कुछ अंश तक कोशिकाओं की आकृति पर और कुछ  - कुछ इन कोशिकाओं के क्रमविन्यास पर निर्भर करती है। पौधों के तनों में संचार उत्तक होते हैं, जो जाइलम और फ्लोअम की संकरी रज्जुओं से युक्त होते है। तने के बीच केन्द्र में भीतर की ओर जाइलम काष्ठीय बेलन के भीतर निर्मित होते हैं जो पुराने होने पर मृत हो जाते हैं और तने के मध्य  को काष्ठीय बना देते हैं। इसके चारों ओर बेलनाकार आकार में फ्लोअम बढ़ते हैं और कोशिका भित्ति निर्मित करते हैं। क्योंकि तना परत दर परत बाहर की ओर त्रिज्यीय रूप में बढ़ता है अतः तने की आकृति बेलनाकार रूप ही धारण करती है।
























बुधवार, 8 अप्रैल 2015

रंग बदलते पहाड़

कुछ पहाड़ रंग क्यों बदलते हैं ?

               किसी पहाड़ के रंग बदलने की बात विचित्र लगती है, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में एक पहाड़ है जो सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक रंग बदलता है। यह पहाड़ उत्तरी क्षेत्र के आयर्स रॉक पर स्थित है। वैसे तो 335 मीटर ऊंचे, 7 किलोमीटर घेरे वाले और 2.4 किलोमीटर चोडे इस पहाड़ का रंग लाल रहता है, लेकिन सूर्योदय के समय यह जैसे आग उगलने लगता है और इसमें बैंगनी और गहरे लाल रंग की लपटें निकलने लगती है। कभी यह लाल होता है, कभी पीला और कभी नारंगी। इस चट्टान के रंग बदलने का कारण इसकी संरचना है। असल में यह पहाड़ी बलुआ पत्थर से बनी है और सुबह व शाम को सूर्य की किरणों में लाल और नारंगी रंग अधिक मात्रा में होते हैं। इसी कारण यह पहाड़ी इस रंग की दिखती है। दोपहर के समय अन्य रंग भी किरणों के साथ आते हैं और बलुआ पत्थरों की विशेष संरचना के कारण  पहाड़ी में ये रंग भी दिखने लगते हैं। इस पहाड़ी के रंग बदलने के कारण ही प्राचीन काल में यहाँ रहने वाले लोग इसे भगवान का घर मानकर इसकी पूजा किया करते थे। आयर्स रॉक की खोज 1873 में ' डब्लयू जी गोसे ' नामक अंग्रेज यात्री ने की थी और इसका नामकरण दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया के तत्कालीन प्रधानमंत्री हेनरी आयर्स के नाम पर आयर्स रॉक कर दिया गया था।

























गुरुवार, 2 अप्रैल 2015

पवित्र गौदुग्ध

गौदुग्ध पवित्र क्यों माना जाता है? 

             गौ को माता कहा गया है। इसका दूध पौष्टिक व सतोगुण प्रधान है। धर्मशास्त्र में गोदुग्ध शुचि माना गया है। इसका भोग देवताओं को चढ़ता है।  गौदुग्ध से बनी मिठाई, बर्फी, कलाकन्द एवं पेड़े देव-पूजा के काम आते हैं। अतः  गौदुग्ध पवित्र है। 
              गौदुग्ध के सेवन से अनेक रोग नष्ट हो जाते हैं। गाय का दूध संग्रहणी, शोध आदि अनेक असाध्य रोगों की अचूक औषधि है। कुशल-स्थूलता एवं मेदा वृद्धि को दूर करने में केवल  गौदुग्ध का ही प्रयोग होता है। पाश्चात्य वैज्ञानिकों ने अनेक परीक्षण के बाद  गौदुग्ध में प्राप्त प्रोटीन एवं विटामिनों का विशेष विश्लेषण करके इसके तत्त्व को पहचाना है, इसलिए वे  गौदुग्ध के स्थान पर अन्य पशुओं के दुग्ध का सेवन नहीं करते।























बुधवार, 1 अप्रैल 2015

# मंगलवार को मालिश करने से मृत्यु

# मंगलवार को मालिश करने से मृत्यु कैसे हो सकती है? इसका वैज्ञानिक आधार क्या है? 

यह अलंकारिक भाषा है। यहां निषेध की अत्यधिक अनिवार्यता के लिए ‘मृत्यु’ शब्द का प्रयोग हुआ है। रवि व मंगल भारतीय ज्योतिष के अनुसार क्रूर ग्रह कहे गए हैं। यह सभी जानते हैं कि मंगल ग्रह लाल रंग का अति ऊष्ण ग्रह है। यह भूमिपुत्र है। इसका सीधा प्रभाव पृथ्वी पर रहने वाले मनुष्यों के रक्त पर पड़ता है। मंगल के दिन जब रक्त का प्रवाह हमारे शरीर में पहले से ही ऊष्णता व तीव्रता को लिए होगा तो उस दिन मालिश करने से रक्त दबाव में वृद्धि होगी। वैज्ञानिक एवं डाॅक्टर लोग कहते हैं कि रक्तचाप में अत्यधिक वृद्धि से मिर्गी, खुजली एवं अनेक घातक रोग प्रकट होते हैं, जिससे व्यक्ति की शीघ्र मृत्यु हो जाती है।