Adsense responsive

मंगलवार, 31 मार्च 2015

जूते पहनकर भोजन क्यों नहीं करें?

जूते पहनकर भोजन क्यों नहीं करें? 

चमड़ा वैसे भी दुर्गन्धपूर्ण परमाणुओं से बनी एक अपवित्र वस्तु है। जूतों के तलों में नाना प्रकार की गंदगी, कीचड़, मल और दुर्गन्धपूर्ण वस्तुएं लगी होती हैं। भोजन एक ईश्वरीय उपासना तुल्य शुचि कार्य होने से उनमें जूतों का संसर्ग धार्मिक एवं वैज्ञानिक दोनों ही दृष्टि से निन्दनीय है।




























कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें