Adsense responsive

रविवार, 1 मार्च 2015

लोहे पर जंग क्यों लगता है ?

लोहे पर जंग क्यों लगता है ?


लोहे की  चीजो को किसी नमी वाले स्थान पर कुछ दिन रख जाए तो इन चीजों पर कत्थई रंग की परत सी जम जाती हैं , इसी को ज़ंग लगना कहते हैं । ज़ंग वास्तव में लोहे का ऑक्साइड हैं । जब लोहे के परमाणु ऑक्सीजन से मिलते हैं यानि संयोग करते हैं, तो लोहे का ऑक्साइड बनता है । लोहे के परमाणुओं का ऑक्सीजन से मिलना ऑक्सीकरण की क्रिया कहलाती है । लोहे पर जंग लगने के लिए ऑक्सीजन और नमी का होना अत्यंत आवश्यक है । नमी और ऑक्सीजन की उपस्थति में लोहे के परमाणु धीरे - धीरे ऑक्सीजन से मिलकर लोहे का ऑक्साइड बनाते हैं और जंग लगने की क्रिया जारी रहती है । जंग लगने से ठोस लोहे की सतह झड़ने लगती हैं और कमजोर पड़ जाती है । जंग लगने को रोकना  वैज्ञानिको के लिए एक बहुत बड़ी समस्या रही है । लोहे पर जंग लगने को पेंट या प्लास्टिक की पतली परत चढ़कर कुछ हद तक रोक जा सकता हैं । पेंट या प्लास्टिक की पतली परत के कारण लोहे के परमाणु पानी के संपर्क में नहीं आ पाते हैं इसलिए ऑक्सीजन लोहे के साथ संयोग नहीं कर पाती हैं और जंग नहीं लगता हैं. ।












कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें