Adsense responsive

रविवार, 22 फ़रवरी 2015

रोज स्नान क्यों करना चाहिए ?

दैनिक स्नान क्यों करें? 

आपने अपने और अन्य सभी को मूलतः यह कहते हुए देखा होगा की रोज स्नान किया करो ! आइए आज जानते हे इसके पीछे क्या कारण हे ?

हिन्दू सनातन धर्म में प्रतिदिन प्रातःकाल में स्नान करके, पवित्र होकर, संध्या, पूजा-पाठ करने का निर्देश है। अतः कुतार्कियों का आरोप है कि दैनिक स्नान क्यों करें? 
हमारे यहां प्रत्येक शुभकर्म में पवित्रता स्थापित करने हेतु स्नान करने का विशेष महत्त्व है। पर वैज्ञानिक दृष्टि से स्नान का तात्पर्य शारीरिक शुद्धि से है। हमारे शरीर में असंख्य रोमकूप हैं। दिन पर परिश्रम करने पर शरीर से पसीना निकलता है। वायु लगने से पसीने का द्रवभाग तो वाष्प बनकर उड़ जाता है, परन्तु अद्रव मैल इन रोम कूपों में जम जाता है। यदि इस मल को नित्य साफ न किया जाए तो कुछ दिनों बाद मैल की मोटी तह एकत्र होकर इन रन्ध्रों को बिलकुल बंद कर देगी। जिससे अंदर का मल और दूषित वायु बाहर न आकर अंदर-ही-अंदर सड़ जाएगी फलतः शरीर में दुर्गध आएगी एवं भयंकर रोग होंगे। इसलिए निरोग एवं स्वस्थ रहने के लिए दैनिक स्नान जरूरी है।











कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें