Adsense responsive

रविवार, 8 फ़रवरी 2015

क्या अस्त हुए सूर्य-चंद्रमा को देखना चाहिए?

क्या अस्त हुए सूर्य-चंद्रमा को देखना चाहिए? 

शास्त्र कहते हैं-
  अस्तकाले रविं चन्द्रं न पश्चेद व्याधिकारणम्।
                                                                      -ब्रह्मवैवर्त पुराण श्रीकृष्ण 75/24 
अस्त होते हुए सूर्य और चंद्रमा को देखने से रोगों की उत्पत्ति होती है।







कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें